Wednesday, January 20, 2021
- Advertisement -

ट्रक में बनाया घर, किसान लेंगे सोफा, वॉशरुम जैसी सुविधा का लाभ

Must Read

सलाम है इस शिक्षक को, हर रोज घोड़े पर बच्चों को पढ़ाने के लिए 18 किलोमीटर दूर जाते हैं वेंकटरमन

गुरू और शिक्षक किसी की भी तकदीर बनाने में सक्षम माने जाते हैं। कहते हैं कि शिक्षक उस दीपक...

किसी की मोहताज नहीं होती कामयाबी, प्रिंस ने साबित कर दिखाया, बनाया ऐसा पक्षी, जो बचाएगा हजारों जिदंगी

कहते है कि कामयाबी किसी की मोहताज नहीं होती। जिसके अंदर काबलियत होगी, कामयाबी उसकी चौखट पर खड़ी होती...

New Delhi: कड़ाके की ठंड़ में किसान सिंधु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर सहित अन्य बॉर्डर पर नए कृषि कानून को लेकर धरने पर हैं। किसान आंदोलन को अब 40 दिन हो चुके हैं। ऐसे में किसानों को किसी तरह से ठंड़ में असुविधा का सामना न करना पड़े। इस कड़ी में एक शख्स ने किसानों के लिए ट्रक में ही घर बना दिया है। ट्रक के अंदर घर बनने के दौरान इसमें घर जैसी सुविधाएं भी दी जा रही है। चलिए जानते हैं इस ट्रक के बारे में

हाउस जैसी सुविधा ट्रक में
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस ट्रक में घर जैसी सुविधा मुहैया कराई गई हैं। इसमें सोफा, वॉशरुम सहित ड्राइंगरुम भी है। जहां किसान आराम कर सकते हैं। ट्रक अंदर वॉशरुम भी है। जिससे किसानों को शौचालय जाने के लिए कहीं दूसरी जगह जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

ट्रक को घर बनाने वाले शख्स क्या बोले
जालंधर से एक शख्स 2 दिसंबर को सिंधु बॉर्डर किसान आंदोलन में पहुंचा था। शख्स कहता है कि वह अपने सारे काम छोडक़र आया था। वह सात दिनों तक यहां पर लंगर परोसता रहा। इसी दौरान उसने सोचा कि क्यों न किसानों के लिए ट्रक में ही घर जैसी सुविधा दूं। इसलिए ट्रक में ही घर बनाया है।

60 किसानों की गई जान
किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसान आंदोलन के दौरान 60 किसानों की मृत्यु हुई है। हर 16 घंटे में एक किसान की मौत हो रही है। टिकैत बोले की मौतों पर सरकार को जवाब देना होगा।

नहीं बनी बात तो लोहड़ी भी मनाई जाएगी
सोमवार को विज्ञान भवन के अंदर किसान नेता व केंद्र की मोदी सरकार के नेताओं के बीच बातचीत का दौर चल रहा है। खबर लिखे जाने तक बैठक चल रही थी। वहीं किसानों ने पहले ही ऐलान कर दिया है कि अगर सरकार ने मांगे नहीं मानी तो आंदोलन उग्र होगा साथ ही सारे त्योहार भी यहीं मनाए जाएंगे। बता दे कि 13 जनवरी को लोहड़ी का पर्व ही यहीं मनाया जाएगा।

- Advertisement -

Latest News

- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -