Sunday, January 17, 2021
- Advertisement -

पहली बार हवाई जहाज में बैठे 53 दिव्यांग बच्चों का सपना हुआ पूरा

Must Read

बचपन में ही छोड़ दी थी पढ़ाई, अब 83 वर्ष की उम्र में बनाई 4 भाषाओं की डिक्शनरी

आमतौर पर हम देखते हैं कि कई लोगों द्वारा माना जाता है कि बुढ़ापे में व्यक्ति कुछ नहीं कर...

नहीं सहन हुई माँ की तकलीफ और बना दिया एक घंटे में 200 रोटी बनाने वाला रोटीमेकर

बूढ़े माता-पिता को घर से निकाल देना, या उन्हें वृद्ध आश्रम में छोड़ देना या फिर उनके साथ दुर्व्यवहार...

होने से पहले ही टूट गई रतन टाटा और एलन मस्क की पार्टनरशिप, टाटा मोटर्स ने ये खुलासा कर चौंका दिया

भारत में दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क की इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी भारत में आने से...

New Delhi: अपने सपने तो सभी पूरे करते हैं। लेकिन दूसरों के सपने पूरे करने वाले लोगों की संख्या भी बेहद कम ही होती है। लेकिन जो लोग दूसरों की खुशी व सपने को पूरा करने में मदद करते हैं वह शख्स बेहद ही खास होते हैं। आज बात ऐसे ही एक शख्स की जिन्होंने 53 दिव्यांग बच्चों के सपने पूरे किए हैं। इस शख्स के द्वारा 53 बच्चों को पहली बार हवाईजहाज में बैठने का मौका मिला। चलिए जानते हैं इस शख्स के बारे में

राज्यसभा सांसद ने की दिव्यांग बच्चों की मदद
दिव्यांग बच्चों ने पहली बार हवाईजहाज में सफर किया है और बच्चों के इस सपने को राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने पूरा किया है। तन्खा ने फ्लाई एविएशन के साथ मिलकर दिव्यांग बच्चों के लिए स्पेशल फ्लाइट चलवाई।

जिंदगी की उड़ान दिया गया नाम
बताया जा रहा है कि जिस स्पेशल विमान में बैठकर बच्चों ने उड़ान भरी है। उस विमान को जिंदगी की उड़ान नाम दिया गया है। बताया जा रहा है कि पहले बस से बच्चों को डुमना एयरपोर्ट तक पहुंचाया दया। इसके बाद वहां से फ्लाई बिग हवाईजाहज से हवाई यात्रा शुरु हुई।

क्या कहा सांसद ने
राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा कि उन्होंने बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए इस विशेष फ्लाईट चलाई गई। वह बताते हैं कि उड़ान के दौरान व इसके बाद बच्चों के चेहरे पर मुस्कान देखने लायक थी। वह बताते हैं कि बच्चे इतने खुश थे कि जैसे मानों उनका सपना पूरा हो गया।

क्या कहा बच्चों ने
सफर के बाद बच्चों ने कहा कि उन्हें पहले तो डर लग रहा था.लेकिन जैसे ही हवा में हवाईजहाज गया तो डर निकल गया। बच्चे कहते हैं कि उन्हें काफी अच्छा लगा है। वह विवेक तन्खा को भी थैंक्यू कह रहे हैं, जिन्होंने उनके सपने को पूरा करने में योगदान दिया।

- Advertisement -

Latest News

बचपन में ही छोड़ दी थी पढ़ाई, अब 83 वर्ष की उम्र में बनाई 4 भाषाओं की डिक्शनरी

आमतौर पर हम देखते हैं कि कई लोगों द्वारा माना जाता है कि बुढ़ापे में व्यक्ति कुछ नहीं कर...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -