Friday, January 22, 2021
- Advertisement -

अमेरिका की सरकार में बजेगा भारत का डंका, अपने देश की वनिता गुप्ता को मिला मंत्रीमंडल में विशेष स्थान

Must Read

एक महीने का बच्चा भूख से था बेहाल, रेलवे अधिकारी खुद लेकर पहुंचे दूध, मां ने कहा धन्यवाद

कई बार सोशल मीडिया व इंटरनेट इंसान को बड़ी से बड़ी मुश्किल से बचा लेता है। एक महिला के...

12 वीं की परीक्षा में देश भर में टॉप करने वाली दिव्यांगी त्रिपाठी गणतंत्र दिवस पर पीएम मोदी के साथ देखेगी परेड

गोरखपुर की इस बच्ची ने पहले देश में अपनी परीक्षा के दम पर इतिहास रचा था। एक बार फिर...

पिता के रूतबे को लेकर बैकडोर एंट्री पर स्पीकर ओम बिरला की IAS बेटी अंजलि ने ट्रोलर को दिया ये जवाब

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और उनकी आईएएस बेटी अंजलि बिरला यूपीएससी परीक्षा में पास होने को लेकर खासी सुर्खियों...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

आज विदेशों में भारतीय मूल के लोगों का खूब डंका बज रहा है। कई देशों में तो भारतीय मूल के लोग प्रधानमंत्री बनकर अपने देश का नाम पूरी दुनिया में रोशन कर चुके हैं। हाल ही में अमेरिका की नई चुनी गई जो बाईडन की सरकार में भी एक भारतीय महिला ने अपने देश का परचम लहराया है। इस भारतीय महिला का नाम है वनिता गुप्ता, जोकि इस सरकार में एसोसिएट जनरल के लिए बाईडन द्वारा नामित की गई हैं। यदि सीनेट ने वनिता गुप्ता के नाम पर मोहर लगा दी तो वह इस नई सरकार में पहली अश्वेत महिला होंगी।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से है वनिता का ताल्लुक

बता दें कि वनिता गुप्ता का ताल्लुक उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से है। उनके दादा फू लप्रकाश उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग में मुख्य अभियंता के पद पर कायर्रत थे। वनिता के पिता करीब चालीस साल पहले भारत से अमेरिका चले गए थे और वहीं उन्होंने खुद को स्थापित किया। आज वनिता के पिता राजीव लोचन वहां एक बड़ी कंपनी में सीईओ के पद पर हैं।

60 लोगों को बचाकर चर्चा में आई थी वनिता

वनिता गुप्ता ने लॉ की डिग्री ली है और वह एक अच्छी लॉयर भी हैं। अमेरिका में वनिता गुप्ता उस समय चर्चाओं में आई थीं, जब उन्होंने लॉ की शिक्षा हासिल करने के तत्काल बाद अमेरिका में 60 बेगुनाह लोगों को रिहा करवाया था। ये सभी अफ्रीकी अमेरिकन थे, जिन्हें टेक्सस में ड्रग के आरोपों में गलत तरीके से दोषी बताया गया था। वनिता ने अपनी दमदार पैरवी के आधार पर ना केवल इन सभी को रिहा करवाया, बल्कि उन्हें 60 लाख डॉलर का मुआवजा भी दिलवाया था।

अमेरिका सरकार में दूसरा कार्यकाल है ये

वनिता गुप्ता का यह दूसरा कार्यकाल होगा, जब सरकार में उन्हें बड़े पद पर बिठाया जा रहा है। इससे पहले वह बराक ओबामा की टीम में भी शामिल रह चुकी हैं। ओबामा सरकार में वनिता को डिप्टी प्रिंसीपल अस्सिटेंट अटार्नी जनरल के पद से नवाजा गया था। इसके साथ साथ वनिता उस सरकार में डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस सिविल राईटस डिवीजन की प्रमुख के पद पर भी कार्य कर रही थीं। वनिता की इस कामयाबी पर उनके पैतृक शहर में खुशी की लहर है। लोग उनके परिवार को बधाईयां दे रहे हैं।

 

- Advertisement -

Latest News

एक महीने का बच्चा भूख से था बेहाल, रेलवे अधिकारी खुद लेकर पहुंचे दूध, मां ने कहा धन्यवाद

कई बार सोशल मीडिया व इंटरनेट इंसान को बड़ी से बड़ी मुश्किल से बचा लेता है। एक महिला के...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -