Wednesday, January 27, 2021
- Advertisement -

प्रेरणा दायक है ये कहानी, गरीब परिवार के युवक नागार्जुन की दोहरी सफलता, डाक्टर के बाद बनें IAS आफिसर

Must Read

रजनी को मिला पदश्री, बंटवारे का झेला दर्द , घर में बनाए बिस्कुट , आज है 1000 करोड़ रुपए की कंपनी

मिसेज रजनी बेक्टर, ये वो नाम है, जिन्होंने अपनी मेहनत और धैर्य के बल पर घर से शुरू किए...

भारी भरकम बाईक को अपने सिर पर उठाकर बस की चीढिय़ां चढ़ा ये मजदूर, वीडियो देखकर रह जाएंगे हैरान

कहते हैं कि पेट भरने के लिए लोगों को मजदूरी तो करनी पड़ती है, साथ ही गरीब होने का...

जिस महिला को कभी डायन कहकर दी गई थी प्रताडऩा, आज मिला उन्हें पदमश्री पुरस्कार

जिस महिला को कभी डायन कहकर मानसिक व शरीरिक तौर पर प्रताडि़त कर यातनाएं दी गई, उस महिला को...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

यदि इंसान कुछ करने की ठान ले तो फिर उसे कोई बड़ी से बड़ी ताकत सफल होने से नहीं रोक सकती। आज हम आपको ऐसे ही एक युवक की हकीकत से रूबरू करवा रहे हैं, जिन्होंने परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के बावजूद अपना घर चलाने के लिए ना केवल नौकरी की, बल्कि इस नौकरी के साथ साथ आईएएस की परीक्षा पास की। कर्नाटक के छोटे से गांव में पैदा हुए नागार्जुन ने परिवार की स्थिति ठीक ना होने के बाजवूद इस पहाड़ जैसी चुनौती को अपनी कठिन मेहनत व लगन से पार कर दिखाया है।

नागार्जुन ने पहले पास की MBBS

नागार्जुन ने इंटरमीडिएट की परीक्षा पास करने के बाद मेडीकल का एंटे्रस पेपर दिया और उसे पास कर लिया। इसके बाद नागार्जुन को MBBS में दाखिला मिल गया। MBBS करने के बाद नागार्जुन ने एक अस्पताल में डाक्टर की नौकरी शुरू कर दी। लेकिन MBBS डाक्टर बनने के बावजूद उनका मन इस प्रोफेशन से हटकर कुछ अलग करने का था। लेकिन दूसरी ओर डाक्टर की नौकरी करना उनकी सबसे बड़ी मजबूरी भी थी। उन्हें यह भली भांति पता था कि डाक्टर की नौकरी छोडऩे के बाद उनका परिवार आर्थिक संकट से घिर जाएगा।

IAS बनना चाहते थे नागार्जुन

दरअसल नागार्जुन IAS आफिसर बनना चाहते थे। पंरतु परिवार की बदहाली उनके इस लक्ष्य के बीच में आ खड़ी हुई थी। इसके बावजूद उन्होंने अपनी दोनों जिम्मेदारियों को निभाने का संकल्प लिया। इस तरह से जहां वह नौकरी कर अपने परिवार की जिम्मेदारी का निर्वाहन कर रहे थे, वहीं उन्होंने अपने सपने को साकार करने का हौंसला भी अपने अंदर पाल लिया था।

डाक्टर की नौकरी के साथ की UPSC की तैयारी

इस जज्बे को जीवित रूप देने के लिए नागार्जुन ने डाक्टर की नौकरी के साथ साथ UPSC की तैयारी भी शुरू कर दी। हालांकि इस परीक्षा को पास करने के लिए स्टुडेंट कोचिंग भी लेते हैं। ताकि वह इस कठिन परीक्षा को आसानी से पास कर सकें। मगर नागार्जुन के सामने तो दोहरी कठिनाई थी। इसलिए उन्होंने अपने स्तर पर ही बिना कोचिंग लिए नौकरी के साथ साथ UPSC की तैयारी शुरू कर दी। वह दिन भर नौकरी करते और रात को UPSC की तैयारी करते। पहली बार UPSC के पेपर देने के बाद वह सफल नहीं हुए। पंरतु उन्होंने हौंसला नहीं छोड़ा और दोबारा से सिविल सर्विस की तैयारी शुरू कर दी। कहते हैं कि सफलता एक दिन में नहीं मिलती, मगर एक दिन मिलती जरूर है। नागार्जुन के साथ भी ऐसा ही हुआ और वह दूसरे प्रयास में सफल रहे तथा IAS अधिकारी में सफलता हासिल की।

कठिन मेहनत और समर्पण भाव है जरूरी

नागार्जुन का कहना है कि इस परीक्षा को पास करने के लिए जहां कठिन मेहनत की जरूरत होती है वह इसके प्रति समर्पण भाव बहुत अधिक जरूरी होता है। इनके अलावा जहां से भी सिविल सर्विस के लिए अधिक से अधिक जानकारी जुटाई जा सके वह जरूर हासिल की जानी चाहिए। उनके अनुसार कई बार सफलता मिलने में कुछ वक्त जरूर लग जाता है मगर कठिन मेहनत, जज्बा और हौंसले के साथ साथ दिन रात की लगन के बाद एक दिन सफलता जरूर आपके पीछे आएगी। उन्होंने कहा कि जो लोग सिविल सेवा की तैयारी कर रहे हैं, उन्हें निराश हुए बिना और अपने पक्के विश्वास के साथ तैयारी करनी चाहिए। कड़ी मेहनत के बाद एक दिन सफलता जरूर मिलती है।

- Advertisement -

Latest News

रजनी को मिला पदश्री, बंटवारे का झेला दर्द , घर में बनाए बिस्कुट , आज है 1000 करोड़ रुपए की कंपनी

मिसेज रजनी बेक्टर, ये वो नाम है, जिन्होंने अपनी मेहनत और धैर्य के बल पर घर से शुरू किए...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!