Sunday, January 17, 2021
- Advertisement -

दुबई में छोड़ी करोड़ों रुपए की नौकरी, सभी ऐशो-आराम त्यागकर अब संत बनेगा यह युवक

Must Read

नहीं सहन हुई माँ की तकलीफ और बना दिया एक घंटे में 200 रोटी बनाने वाला रोटीमेकर

बूढ़े माता-पिता को घर से निकाल देना, या उन्हें वृद्ध आश्रम में छोड़ देना या फिर उनके साथ दुर्व्यवहार...

होने से पहले ही टूट गई रतन टाटा और एलन मस्क की पार्टनरशिप, टाटा मोटर्स ने ये खुलासा कर चौंका दिया

भारत में दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क की इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी भारत में आने से...

कैसे बना जाए IAS , क्या है UPSC की तैयारी के टिप्स, बता रही हैं चर्चित IAS अधिकारी टीना डाबी

देश भर में यूपीएससी में टॉप करने के बाद आईएएस बनीं टीना डाबी अधिकांश चर्चाओं में रहती हैं। चाहे...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

आज के युवाओं का आमतौर पर यही सपना होता है कि वह पढ़ लिखकर विदेश मे सैटल हो जाएं। इसके लिए वह पूरी तैयारी करते हैं। ताकि विदेश में नौकरी पाकर वह खूब पैसा कमाएं और फिर ठाठ बाट की जिदंगी जिएं। लेकिन इसके ठीक विपरित आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति से रूबरू करवाएं, जिन्होंने दुबई में काम करके काफी पैसा कमाया, मगर अब वह इस ऐशो आराम व धन दौलत को छोडक़र साधू संत की जिदंगी जीना चाहते हैं।

दुबई में करते थे नौकरी

इस शख्स का नाम है हितेश भाई। मध्यप्रदेश के शिवपुरी के रहने वाले हितेश ने दुबई में करोड़ों रुपए की नौकरी को त्याग कर वैरागय का जीवन जीने का संकल्प ग्रहण किया है। दुबई में इंकम टैक्स सलाहकार के तौर पर करोड़ों रुपए का वेतन लेने वाले हितेश भाई बहुत समय पहले ही यह फैसला लेना चाहते थे, पंरतु बड़े भाई की शादी और माता-पिता के लिए नया घर बनवाने की वजह से उनका यह निर्णय कुछ समय के लिए टल गया था। उनके अनुसार वह बहुत पहले ही संत जीवन को अपनाना चाहते थे, मगर अब इसमें वह और अधिक देरी नहीं करना चाहते।

इस तिथि को बन जाएंगे संत

दरअसल हितेश भाई ने अपनी नौकरी को त्याग दिया है और अब वह जैन संत बनने की दिशा में आगे बढ़ चुके हैं। इसके लिए 14 जनवरी को वह दीक्षा ग्रहण करने के बाद कठिन साधना करने के लिए चले जाएंगे। दीक्षा ग्रहण करने के अवसर पर हितेश भाई के पिता भागचंद और माता चंपाबेन अपने बेटे को जैन समाज के प्रमुख संत आदर्श महाराज को दे देंगे।

आचार्य नवरत्न सागर के संपर्क में आए थे हितेश

हितेश ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जब वह 12 वीं कक्षा में पढ़ रहे थे, तब वह आचार्य नवरत्न सागर के संपर्क में आए थे। इस दौरान आचार्य से बात करने के बाद उनका भी रूझान वैरागय और संत समाज के प्रति हो गया था। वहीं से उन्हें जैन ग्रंथों को पढऩे की शिक्षा मिली और उनका ध्यान आकर्षित होता गया।

14 जनवरी को लेंगे दीक्षा

हितेश भाई के अनुसार वह अपना संपूर्ण जीवन जैन समाज को समर्पित करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। 14 जनवरी को दीक्षा ग्रहण करने के उपरांत एक भव्य समारोह में वह संत के रूप में मान्यता प्राप्त कर लेंगे। बता दें कि हितेश भाई व उनका परिवार मूलरूप से गुजरात के अहमदाबाद के रहने वाले हैं। हितेश भाई ने बीकॉम करने के बाद मुंबई में टैक्स कंसल्टेंट के तौर पर काम किया, जिसके बाद वह दुबई चले गए, वहां उन्हें करोड़ों रुपए के पैकेज की शानदार नौकरी की। पंरतु अब वह वैरागय की ओर मुड़ गए हैं। निर्धारित समय के बाद वह जैन समाज के संत के तौर पर अंलकृत हो जाएंगे।

- Advertisement -

Latest News

नहीं सहन हुई माँ की तकलीफ और बना दिया एक घंटे में 200 रोटी बनाने वाला रोटीमेकर

बूढ़े माता-पिता को घर से निकाल देना, या उन्हें वृद्ध आश्रम में छोड़ देना या फिर उनके साथ दुर्व्यवहार...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -