Friday, April 23, 2021
- Advertisement -

हरियाणा के लाल सोनू को मिला वीरता पुरस्कार, 22 आपरेशन में 58 आतंकियों को लगा चुके हैं ठिकाने

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

सेना के इस साहसी जवान ने अपने अदम्य साहस से ना केवल आतंकियों को अपनी गोलियों से भून डाला बल्कि हरियाणा के इस वीर बालक ने अदम्य साहस दिखाते हुए अपने परिवार और प्रदेश का नाम भी रोशन कर दिया है। सोनू अहलावत ने 22 आपरेशन में 58 आतंकियों को मार गिराने का गौरवशाली रिकार्ड अपने नाम दर्ज करवाया है। इस साहस और देश के प्रति समर्पण भावना के चलते सोनू अहलावत को वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

amar ujala

सीआरपीएफ में तैनात हैं सोनू अहलावत

सोनू अहलावत को वीरता पुरस्कार मिलने पर उनके गांव और प्रदेश में खुशी की लहर है। हर कोई सोनू के इस कार्य की सराहना कर रहा है। हरियाणा के जींद जिले के गांव लजवाना खुर्द में रहने वाले सोनू ने अपने शक्ति और शौर्य के बल पर आतंकियों से लोहा लेते हुए उन्हें ठिकाने लगाने का शानदार प्रदर्शन किया है। सीआरपीएफ में तैनात सोनू वर्तनाम में श्रीनगर में कार्यरत हैं।

जम्मू में घायल होकर भी लड़ते रहे सोनू

सोनू अहलावत वर्ष 2012 में सीआरपीएफ में भर्ती हुए थे। सोनू की वीरता की असल कहानी ये हैं कि उन्होंने साल 2019 में जम्मू में एक आतंकी आपरेशन में सबसे अलग हटकर वीरता का परिचय देते हुए कई आंतकियों को ठिकाने लगा दिया था। इस हमले में सोनू भी गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इसके बावजूद पीछे हटने की बजाए वह आतंकियों का सफाया करने में जुटे रहे। इस आपरेशन के बाद सोनू काफी समय तक अस्पताल में भर्ती रहकर ईलाज करवाते रहे। मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार सोनू अब तक 22 आपरेशन में शामिल होकर 58 आतंकियों को मौत के घाट उतार चुके हैं।

गांव में है खुशी का माहौल

सोनू को वीरता पुरस्कार मिलने पर उनके गांव व रिश्तेदारों में खुशी का माहौल है तथा परिवार के लोगों ने मिठाई बांटकर लोगों का मुंह मीठा करवाया है। सोनू के पिता रणबीर सिंह और मां विमला ने अपने बेटे की इस उपलब्धि पर खुशी जताई है। उन्होंने कहा कि वह अपने बेटे के इस साहस और वीरता पर गर्व महसूस करते हैं। वह भागयशाली हैं जो उनका बेटा अपने देश की रक्षा कर रहा है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -