Wednesday, January 27, 2021
- Advertisement -

महिला पर किस्मत हुई मेहरबान, बन गई पंचायत की अध्यक्ष, कभी 10 साल तक लगाया था झाड़ू-पोछा

Must Read

रजनी को मिला पदश्री, बंटवारे का झेला दर्द , घर में बनाए बिस्कुट , आज है 1000 करोड़ रुपए की कंपनी

मिसेज रजनी बेक्टर, ये वो नाम है, जिन्होंने अपनी मेहनत और धैर्य के बल पर घर से शुरू किए...

भारी भरकम बाईक को अपने सिर पर उठाकर बस की चीढिय़ां चढ़ा ये मजदूर, वीडियो देखकर रह जाएंगे हैरान

कहते हैं कि पेट भरने के लिए लोगों को मजदूरी तो करनी पड़ती है, साथ ही गरीब होने का...

जिस महिला को कभी डायन कहकर दी गई थी प्रताडऩा, आज मिला उन्हें पदमश्री पुरस्कार

जिस महिला को कभी डायन कहकर मानसिक व शरीरिक तौर पर प्रताडि़त कर यातनाएं दी गई, उस महिला को...

New Delhi: मेहनत कर एक दिन फल जरूर मिलेगा। जी हां आपने ठीक सुना। आज हम आपके लिए एक ऐसी महिला की स्टोरी लेकर आए हैं। जिसने लगातार मेहनत की। चूंकि उसने मेहनत की थी तो उसको फल मिलना स्वाभाविक ही था। केरल की एक महिला को एक ब्लॉक पंचायत का अध्यक्ष बनाया गया है। जिसके बाद से यह महिला सुर्खियों में आ गई है। सोशल मीडिया पर इस महिला के बारे में ट्विट किए जा रहे हैं। इस महिला का नाम है ए. आनंदवल्ली। 46 साल की ए. आनंदवल्ली केरल के कोल्लम जिले में रहती है।

इस वजह है सुर्खियों में
सोशल मीडिया पर केरल की यह 46 साल की महिला इसलिए सुर्खियों में आई है, क्योंकि जिस जगह पर इसे पंचायत का अध्यक्ष बनाया गया है। वहां पर यह महिला 10 साल तक झाड़ू-पोछा का काम करती थी। सुनकर हैरान हुए न। प्राप्त जानकारी के अनुसार पठानपुरम के ब्लॉक में आनंदवल्ली 10 सालों से कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारी के रुप में झाड़ू-पोछा का काम करती थी।

झाड़ू-पोछा नहीं. चाय भी पिलाती थी
बताया जा रहा है कि आनंदवल्ली झाड़ू-पोछा के अलावा लोगों को चाय पिलाने का काम भी करती थी।

इस पार्टी ने दिया टिकट और चुनाव जीत गई
बताया जा रहा है कि आनंदवल्ली के काम को देखते हुए उसे भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने स्थानीय निकाय चुनाव में लडऩे का ऑफर दिया। जिसे आनंदवल्ली ने स्वीकार कर लिया। इसे देखते हुए पार्टी ने उसे टिकट दिया। टिकट पर आनंदवल्ली ने चुनाव लड़ा और वह जीत गई।

पार्टी से ऐसा था कनेक्शन
प्राप्त जानकारी के अनुसार आनंदवल्ली व उनका परिवार माक्र्सवादी समर्थक रहे हैं। उनके पिता तो माकपा के कार्यकर्ता भी हैं। उन्हें एससी-एसटी कोटे के तहत अध्यक्ष चुना गया है। बताया जा रहा है कि जिस वक्त वह अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठी लोगों के आंखों से आंसू बहने लगे।
.

- Advertisement -

Latest News

रजनी को मिला पदश्री, बंटवारे का झेला दर्द , घर में बनाए बिस्कुट , आज है 1000 करोड़ रुपए की कंपनी

मिसेज रजनी बेक्टर, ये वो नाम है, जिन्होंने अपनी मेहनत और धैर्य के बल पर घर से शुरू किए...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!