Wednesday, January 20, 2021
- Advertisement -

बीमारी को बनाया अपनी ताकत, आज अपनी चित्रकला और गायन से कर रही हैं लाखों दिलों पर राज

Must Read

सलाम है इस शिक्षक को, हर रोज घोड़े पर बच्चों को पढ़ाने के लिए 18 किलोमीटर दूर जाते हैं वेंकटरमन

गुरू और शिक्षक किसी की भी तकदीर बनाने में सक्षम माने जाते हैं। कहते हैं कि शिक्षक उस दीपक...

किसी की मोहताज नहीं होती कामयाबी, प्रिंस ने साबित कर दिखाया, बनाया ऐसा पक्षी, जो बचाएगा हजारों जिदंगी

कहते है कि कामयाबी किसी की मोहताज नहीं होती। जिसके अंदर काबलियत होगी, कामयाबी उसकी चौखट पर खड़ी होती...

आमतौर पर देखा जाता है कि कई लोग अपनी कमजोरियों के आगे अपने घुटने टेक देते हैं और जीना छोड़ देते हैं| लेकिन इसी बीच कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो अपनी कमजोरियों को अपनी ताकत बना लेते हैं और जीने का नया तरीका ढूंढ लेते हैं| इन्हीं लोगों में से एक हैं श्रुति और गौरी| जिन्होंने अपनी कमजोरी को अपनी ताकत बना लिया और आज अपने हुनर से लाखों लोगों के दिलों पर राज कर रही हैं|

instagram/gauribhatla

आइए जानते हैं श्रुति और गौरी का सफर

श्रुति और गौरी दोनों जुड़वां बहनें हैं और ओस्टोजेनेसिस इम्परफेक्टा से ग्रसित हैं| बता दें कि इस बीमारी में इंसान के शरीर की हड्डियाँ इतनी कमजोर हो जाती हैं कि इंसान न तो चल पाता और न ही खुद से कुछ कर पाता| ऐसी भयावह बीमारी से ग्रसित होने के बाद भी श्रुति और गौरी ने हार नहीं मानी| उन्होंने अपने साथ साथ अपने माता पिता का भी नाम रोशन किया है| उन्होंने सपने देखे और अपनी मेहनत के साथ उन सपनों को पूरा किया|

लोगों ने कहा कि “ऐसे बच्चों को तो मार ही देना चाहिए”

एक साक्षात्कार में दोनों बहनों ने बताया कि उनकी बीमारी को देखकर लोग उनके माता-पिता से यहाँ तक कह देते थे कि”ऐसे बच्चों को तो मार ही देना चाहिए|” लेकिन उनके माता पिता ने उनका हमेशा साथ दिया| श्रुति और गौरी ने टीवी में देखकर चित्रकला और गायकी सीखी और उसके बाद अपने इसी हुनर को उन्होंने और निखारा| एक बार दोनों बहनों ने बाल भवन की चित्रकला प्रतियोगिता में भी भाग लिया था लेकिन तब भी लोगों ने बहुत ताने मारें लेकिन दोनों ने कभी खुद को कमजोर नहीं पड़ने दिया|

आज अपनी गायकी से लाखों लोगों के दिलों में बना चुकी हैं अपनी जगह

इसके बाद दोनों बहनों ने गायकी को और चित्रकला को बारीकी से सीखा और आज वह अपने इसी जुनून और हुनर के कारण लाखों लोगों के दिलों में अपनी जगह बना चुकी हैं| श्रुति और गौरी को बालश्री पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है| साथ ही दोनों बहनें कई प्रसिद्ध कलाकारों के साथ भी काम कर चुकी हैं| आज श्रुति और गौरी ने अपने हुनर के कारण अपना और अपने माता-पिता का नाम रोशन कर दिया है| आज श्रुति और गौरी उन सभी लोगों को भी प्रेरित कर रही हैं जो कठिनाइयों से डर कर जीना छोड़ देते हैं|

 

- Advertisement -

Latest News

- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -