Friday, April 23, 2021
- Advertisement -

किसी की मोहताज नहीं होती कामयाबी, प्रिंस ने साबित कर दिखाया, बनाया ऐसा पक्षी, जो बचाएगा हजारों जिदंगी

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

कहते है कि कामयाबी किसी की मोहताज नहीं होती। जिसके अंदर काबलियत होगी, कामयाबी उसकी चौखट पर खड़ी होती है। कुछ ऐसा ही साबित कर दिखाया है 20 साल के प्रिंस पांचाल ने। गुजरात के रहने वाले प्रिंस ने अपनी मेहनत और सूझबूझ के दम पर एक ऐसा पक्षी बनाया है, जोकि हवाई जहाज के एक्सीडेंट को रोक देगा। इससे उन हजारों जिदंगियों को बचाया जा सकेगा, जो प्लेन क्रैश का शिकार हो जाते हैं। प्रिंस के इस अविष्कार की मीडिया में खूब तारीफ भी हो रही है।

ANI

इस तरह से किया पक्षी का अविष्कार
प्रिंस ने बताया कि उन्होंने यह अविष्कार सोशल मीडिया पर देखकर किया है। उनका असल मकसद है कि हवाई यात्रा के दौरान होने वाले हादसों को रोका जा सके। इस अविष्कार को यदि सरकार ने स्वीकृत किया तो वह दिन भी दूर नहीं, जब हवाई अडडों पर होने वाली दुघर्टनाओं को रोका जा सकेगा। दरअसल प्रिंस बताते हैं कि उन्होंने रिमोर्ट से कंट्रोल होने वाला एक ऐसा पक्षी बनाया है, जिससे हवाई अडडों के आसपास उडऩे वाले पक्षियों व ईगल को भगाया जा सकता है।

लैडिंग और टेकऑफ के वक्त होते हैं हादसे
प्रिंस ने बताया कि हवाई जहाज की लैडिंग और टेकऑफ के समय आसमान में उडऩे वाले पक्षियों की वजह से कई बड़े हादसे हो जाते हैं। जिनमें कई लोग इसका शिकार होकर जीवन भर के लिए अपनो को खो देते हैं। इसको सोचते हुए ही उन्होंने एक ऐसा ईगल टाईप का इलेक्ट्रिक पक्षी का अविष्कार किया है, जोकि विमानों के उडऩे व उतरने के समय आसमान में उडऩे वाले पक्षी और उनके झुंड को दूर भगा सकता है। इस ईगल को रिमोर्ट से कंट्रोल किया जा सकता है। एयरपोर्ट पर नियुक्त कर्मचारी इस ईगल की सहायता से ऐसे बड़े हादसों को आसानी से रोक सकते हैं।

विदेशों में प्रयोग होते हैं इस तरह के ईगल
प्रिंस के अनुसार इस ईगल की रेंज को आवश्यकता के अनुसार बढ़ाया भी जा सकता है। यह खर्च पर निर्भर करता है। इसकी रेंज को जरूरत पडऩे पर 5 से 10 किलोमीटर तक आगे ले जाया जा सकता है। यदि उनके इस अविष्कार को सरकार ने स्वीकृत किया तो इसे भारत में एक बड़ी क्रांति के तौर पर देखा जा सकता है। अभी तक इस तरह के ईगल विदेशों में ही पाए जाते हैं। विदेशों में ये ईगल आसमान में उडऩे वाले पक्षियों को विमान की लैंडिंग और टेकऑफ के समय प्रयोग में लिया जाता है। यदि भारत में भी इस ओर ध्यान दिया गया तो वह दिन भी दूर नहीं जब विमानों के चढऩे व उतरने के समय प्लेन कै्रश की घटनाएं समाप्त हो सकती हैं।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -