Monday, April 19, 2021
- Advertisement -

मात्र 2 साल के बच्चे ने रचा इतिहास, स्केटस चलाकर गोल्डन बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्डस मेें दर्ज करवाया अपना नाम

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

जिस उम्र में बच्चे बोलना और बात को समझना भी नहीं सीखते, क्या उस उम्र में कोई बच्चा विश्व रिकार्ड भी बना सकता है। जवाब होगा नहीं, मगर यह हकीकत है और एक दो साल के बच्चे ने विश्व विजेता बनकर अपना नाम गोल्डन बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्डस में दर्ज करवा दिया है। इस दूध पीते बच्चे की उपलब्धि देखकर हर कोई दांतों तले उंगली दबा लेता है। किसी को यकीन नहीं होता कि मात्र दो साल का बच्चा एक बड़े और दुनिया के सम्मानित रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करवा चुका है।


राजस्थान के अजमेर का रहने वाला है ये बच्चा
इस बच्चे का नाम है सिद्वार्थ, जोकि राजस्थान के अजमेर का रहने वाला है। इस बच्चे के पिता महेंद्र भंडारी हैं, जोकि स्केटिंग कोच के तौर पर बच्चों को स्केटिंग करना सिखाते हैं। महेंद्र बताते हैं कि जब उनके बेटे को पैदा हुए कुछ ही महीने हुए थे, तभी से वह स्केटस से खेलने लगा था। वह स्केटस को देखकर बहुत खुश भी होता था। मगर जब वह एक साल का हुआ तो उसे स्किेटिंग सिखाना शुरू कर दिया। द लॉजीक्ली के अनुसार वह अपने बेटे में स्केटिंग खिलाड़ी देखने लगे थे। उन्हें पूरा विश्वास था कि उनका बेटा इस फील्ड में कोई बड़ा इतिहास रच सकता है। यही वजह है कि जैसे जैसे उसकी उम्र में इजाफा होता गया, वैसे वैसे वह स्केटिंग सीखने लगा। सबसे पहले सिद्धार्थ को उन्होंने इन लाईन स्केटस सिखाना शुरू किया, ताकि वह कुछ अलग कर सके।

इस तरह से दर्ज हुआ रिकार्ड
जैसे ही सिद्धार्थ की टे्रनिंग शुरू हुई तो उसने सबसे पहले इन लाईन स्केटस सीखना शुरू कर दिया। दो साल की उम्र में ही उसने 1 किलोमीटर तक इन लाईन स्केटस चलाकर अपना नाम गोल्डन बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्डस में दर्ज कर इतिहास रच दिया। उनके पिता के अनुसार सिद्धार्थ का सार्टिफिकेट भी जारी कर दिया गया है। सिद्धार्थ की इस काबलियत और सफलता को देखकर लोग ना केवल हैरान हो जाते हैं, बल्कि अपनी दांतों तले उंगली भी दबा लेते हैं। सिटीमेल न्यूज इस होनहार बच्चे को उनकी इस बड़ी कामयाबी के लिए शुभकामनाएं देता है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -