Monday, January 25, 2021
- Advertisement -

रेलवे ने तैयार की भारत की पहली हॉस्पिटल ट्रेन, ऐसे मिलेगी लोगों को सुविधा

Must Read

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...

सडक़ हादसे रोकने का जुनून, पति राघवेंद्र ने घर और पत्नी ने जेवर बेच दिए, 48000 लोगों को बांट चुके हैं मुफ्त हेलमेट

दोस्तों और रिश्तेदारों की मदद करने के किस्से तो आपने बहुत सुने होंगे। क्या कभी आपने यह सुना है...

इस महिला ने सोहराई और मधुबनी कला के माध्यम से बनाई खुद की पहचान, विदेशों में भी लहराया भारतीय कला का परचम

वर्तमान समय में देखा जाता है कि ज़्यादातर लोग पश्चिमी सभ्यता से आकर्षित हो रहे हैं जिसके कारण वह...

New Delhi: दूर-दराज इलाकों में स्वास्थ्य सेवा पहुंचाने के लिए भारत में पहली बार हॉस्पिटल ट्रेन बनाई गई है। इससे पहले भारत में इस तरह की कोई ट्रेन नहीं थी। इस नई र्टेन के तहत लोगों को बेहतर चिकित्सकीय सहायता पहुंचाई जाएगी। रेलवे ने इस ट्रेन को बनाकर इतिहास रच दिया है। रेल मंत्रालय ने इस बात की जानकारी अपने ट्विटर अकाउंट से कुछ फोटोज शेयर करके दी हैं। मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि इस ट्रेन से काफी लाभ मिलेगा। साथ ही यह एकमात्र व दुनिया की पहली ट्रेन है, जिसमें अस्पताल की सुविधा मिलेगी। इस ट्रेन का नाम है लाइफलाइन एक्सप्रेस।

मरीज के इलाज के लिए सारी सुविधा
इस ट्रेन के बारे में बताया जा रहा है कि यह मल्टीस्पेशलिटि हॉस्पिटल है। जिसकी वजह से इस ट्रेन में मरीजों के लिए सारी सुविधाएं उपलब्ध है। बताया जा रहा है कि लाइफलाइन एक्सप्रेस में मरीजों के लिए मुफ्त में इलाज की व्यवस्था की गई है। इस ट्रेन का उद्देश्य सिर्फ इतना है कि गांव व देहात इलाकों में स्वास्थ्य सेवा पहुंचाई जाए।

दो ऑपरेशन थियेटर भी
इस ट्रेन की खास बात यह है कि इसमें आज के जमाने के दो आधुनिक ऑपरेशन थियेटर है। साथ ही मेडिकल स्टॉफ रुम के अलावा कई सुविधाएं मौजूद है

बदरपुर स्टेशन पर तैनात है
रेल मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि यह लाइफलाइन एक्सप्रेस ट्रेन बदरपुर स्टेशन पर खड़ी है। बताते चले कि यह स्टेशन असम राज्य में आता है।

भारत के अलग-अलग हिस्सों से गुजरेगी ट्रेन
रेल मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि इस ट्रेन को भारतीय रेलवे व इम्पैकट इंडिया फाउंडेशन के तहत बनाया गया है। बताया जा रहा है कि कोराना महामारी के दौरान इस ट्रेन की पहल को काफी कारगार बताया जा रहा है। साथ ही यह ट्रेन देश के अलग-अलग हिस्सों से होते हुए गुजरेगी।

- Advertisement -

Latest News

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!