Sunday, January 17, 2021
- Advertisement -

सिंघू बार्डर पर ठंड से ठिठुर रहा था शख्स, CISF के जवान ने अपने कपड़े देकर पेश की इंसानियत की मिसाल

Must Read

नहीं सहन हुई माँ की तकलीफ और बना दिया एक घंटे में 200 रोटी बनाने वाला रोटीमेकर

बूढ़े माता-पिता को घर से निकाल देना, या उन्हें वृद्ध आश्रम में छोड़ देना या फिर उनके साथ दुर्व्यवहार...

होने से पहले ही टूट गई रतन टाटा और एलन मस्क की पार्टनरशिप, टाटा मोटर्स ने ये खुलासा कर चौंका दिया

भारत में दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क की इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी भारत में आने से...

कैसे बना जाए IAS , क्या है UPSC की तैयारी के टिप्स, बता रही हैं चर्चित IAS अधिकारी टीना डाबी

देश भर में यूपीएससी में टॉप करने के बाद आईएएस बनीं टीना डाबी अधिकांश चर्चाओं में रहती हैं। चाहे...

पिछले 40 दिनों से कड़ाके की ठंड में भी किसान आंदोलन जारी है| आए दिन किसान और सरकार के बीच बैठक हो रही हैं लेकिन फैसला कब आएगा और कब यह आंदोलन खत्म होगा, यह फिलहाल किसी को नहीं पता| किसान आंदोलन में किसान और सुरक्षा बल आमने-सामने तक आ गया है| एक तरफ किसान अपने हक की मांग कर रहे हैं और दूसरी तरफ सुरक्षा बल किसानों की सुरक्षा पर ध्यान दे रहा है| ऐसे में एक बड़ा ही भावुक वाक्य सामने आया है, जिसे देखकर सभी लोग भावुक हो रहे हैं और CISF के जवान की खूब तारीफ कर रहे हैं|

CISF के जवान ने दिये अपने कपड़े

बता दें कि सिंघू बार्डर पर किसान आंदोलन जारी है और कड़ाके की ठंड भी पड़ रही है| इसी बीच सिंघू बार्डर पर एक लाचार शख्स ठंड से ठिठुर रहा था| तभी एक CISF के जवान की नज़र उस शख्स पर पड़ी और वह उस शख्स की मदद के लिए आगे आए| CISF के जवान ने शख्स को ठंड से बचाने के लिए अपनी टी-शर्ट निकालकर पहना दी, साथ ही अपने गर्म जूते, टोपी और गर्म जैकेट भी उस शख्स को पहना दी|

शख्स को पिलाई गर्म चाय और दिया कंबल

अपने कपड़े देने के बाद भी जब शख्स को ठिठुरता देखा तो जवान ने तभी एक नया कंबल खरीदा और शख्स को दे दिया| साथ ही जवान ने उसे गर्म चाय भी पिलाई और आग के पास ले जाकर बैठा दिया ताकि शख्स के शरीर को गर्माहट मिल पाए| CISF के जवान का यह सराहनीय कार्य सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियां बटोर रहा है|

 

- Advertisement -

Latest News

नहीं सहन हुई माँ की तकलीफ और बना दिया एक घंटे में 200 रोटी बनाने वाला रोटीमेकर

बूढ़े माता-पिता को घर से निकाल देना, या उन्हें वृद्ध आश्रम में छोड़ देना या फिर उनके साथ दुर्व्यवहार...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -