Friday, January 22, 2021
- Advertisement -

अंबानी परिवार ने लिया निर्णय,नीता और मुकेश अंबानी के बच्चों ने कहा और बदल गया स्कूल का टाईम टेबल

Must Read

त्रिवेंद्र सरकार का बड़ा ऐलान,Haridwar की होनहार बेटी सृष्टि गोस्वामी बनेगी उत्तराखंड की मुख्यमंत्री

उत्तराखंड में जल्द ही ऐसा दिन आएगा, जब राज्य की सरकार की मुखिया एक बेटी होगी। सीएम त्रिवेंद्र सिंह...

एक महीने का बच्चा भूख से था बेहाल, रेलवे अधिकारी खुद लेकर पहुंचे दूध, मां ने कहा धन्यवाद

कई बार सोशल मीडिया व इंटरनेट इंसान को बड़ी से बड़ी मुश्किल से बचा लेता है। एक महिला के...

12 वीं की परीक्षा में देश भर में टॉप करने वाली दिव्यांगी त्रिपाठी गणतंत्र दिवस पर पीएम मोदी के साथ देखेगी परेड

गोरखपुर की इस बच्ची ने पहले देश में अपनी परीक्षा के दम पर इतिहास रचा था। एक बार फिर...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

देश के सबसे प्रभावी परिवार के तौर पर माने जाने वाला अंबानी परिवार के रूतबे और उनके रहन सहन को लेकर तो सभी जानते हैं, लेकिन यह बहुत कम ही लोग जानते हैं कि इस परिवार के बच्चे भी अपनी सलाह से बड़े से बड़ा फैसला बदलवा देते हैं। यहां बात हो रही है रिलांयस उद्योग के कर्ताधर्ता मुकेश अंबानी परिवार के बच्चों की। नीता अंबानी का कहना है कि जब भी उन्हें किसी सलाह की जरूरत होती है तो वह सबसे पहले अपने पति मुकेश अंबानी से ही बात करती हैं। नीता अंबानी अपने पति मुकेश अंबानी को ना केवल अपना गुरू मानती हैं, बल्कि उन्हें अपना मैंटर और सबसे बेहतर सलाहकार का दर्जा भी देती हैं।

अपने पति से लेती हैं नीता सलाह

मीडिया को दिए गए इंटरव्यू में नीता अंबानी ने यह बात स्वीकार भी की है कि उन्हें यदि सलाह की जरूरत होती है तो वह सीधे मुकेश अंबानी को ही संपर्क करती हैं। नीता अंबानी का कहना है कि मुकेश के अलावा वह अब अपने बच्चों से भी सलाह ले लेती हैं। उनका मानना है कि आजकल के बच्चों की सोच बिल्कुल अलग होती है। बच्चों की सोच में एनर्जी और पॉजीटिविटी होती है। वह हर सलाह को देने से पहले उस पर बहुत गौर करते हैं। इसलिए जो बच्चा बेहतर तरीके से सोचता हो उसकी सलाह भी अलग ही होगी। इसलिए अब वह अपने बच्चों को भी इससे जोडऩे लगी हैं।

इस तरह से बदल दिया था टाईम टेबल

नीता अंबानी बताती हैं कि एक बार वह धीरू भाई अंबानी स्कूल का टाईम टेबल बना रही थीं। वह अपनी सोच के अनुसार एक पीरियड एक घंटे का रखना चाह रही थी। तभी उनके बच्चे ईशा और आकाश जोकि उस समय 7 वीं व 8 वीं में पढ़ रहे थे, उन्होंने मुझे सलाह दी कि बच्चे 40 मिनट पढऩे के बाद आखिर के 20 मिनट में बुरी तरह से ऊब जाते हैं और वो समय पढऩे की बजाए या तो सो जाते हैं या फिर टाईम पास करते हैं। बच्चों की इस सोच व सलाह के बाद उन्होंने अपने स्कूल का पूरा टाईम टेबल बनाया और पीरियड का समय 40 मिनट और छोटे बच्चों के लिए इसे आधे घंटे कर दिया।

- Advertisement -

Latest News

त्रिवेंद्र सरकार का बड़ा ऐलान,Haridwar की होनहार बेटी सृष्टि गोस्वामी बनेगी उत्तराखंड की मुख्यमंत्री

उत्तराखंड में जल्द ही ऐसा दिन आएगा, जब राज्य की सरकार की मुखिया एक बेटी होगी। सीएम त्रिवेंद्र सिंह...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -