Monday, January 25, 2021
- Advertisement -

जरूरतमंद बच्चों को नए साल पर मिला खाना तो खिल उठे चेहरे

Must Read

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...

सडक़ हादसे रोकने का जुनून, पति राघवेंद्र ने घर और पत्नी ने जेवर बेच दिए, 48000 लोगों को बांट चुके हैं मुफ्त हेलमेट

दोस्तों और रिश्तेदारों की मदद करने के किस्से तो आपने बहुत सुने होंगे। क्या कभी आपने यह सुना है...

इस महिला ने सोहराई और मधुबनी कला के माध्यम से बनाई खुद की पहचान, विदेशों में भी लहराया भारतीय कला का परचम

वर्तमान समय में देखा जाता है कि ज़्यादातर लोग पश्चिमी सभ्यता से आकर्षित हो रहे हैं जिसके कारण वह...

New Delhi: साल 2020 जा चुका है, और नया साल 2021 आ चुका है। लोग बीते हुए साल को भूलाकर नए साल का स्वागत कर रहे हैं। कहीं जोरदार डीजे बज रहा है तो कहीं पब व होटलों में शराब परोसी जा रही हैं। कहने का तात्पर्य यह है कि जब पुरा देश नए साल के जश्न में डूबा हुआ था, तब एक शख्स ने उन बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाने का काम किया जो पैसे की तंगी के चलते कभी नया साल मनाना तो दूर ठीक ढंग से भोजन नहीं कर पाते हैं।

आईपीएस ने पोस्ट की फोटो

 


सीनियर आईपीएस अफसर दिपांशु काबरा ने एक जनवरी को अपने ट्विटर हैंडल से कुछ फोटो शेयर की। इन फोटों में आप देख सकते हैं कि जरूरतमंद बच्चे लाइन लगाकार खाना खा रहे हैं, और उनके चेहरे पर मुस्कान बनी हुई हैं।

आईपीएस ने फोटो के बारे में लिखा..
आईपीएस ने लिखा जब पुरी दुनिया न्यू ईयर मना रही थी तो जयपुर,राजस्थान उजेब खान गरीब बच्चों को खाना खिलाकर उनके साथ न्यू ईयर सेलिब्रेट कर रहे थे। उन्होंने लिखा आप जैसे लोगों ने ही दुनिया में अच्छाई व उम्मीद की मशाल जला रखी है।

आईपीएस को शख्स ने दिया जवाब
जरूरतमंद बच्चों को खाना खिलाने वाले शख्स उजेब खान ने ट्विट किया। उन्होंने लिखा कि मुझे बेहद खुशी है कि मैंने बच्चों को खाना खिलाया। यह साल मेरे लिए बाकी सालों की तुलना में खास बना है।

लोगों ने दी प्रतिक्रिया
इन फोटो पर लोगों की भी प्रतिक्रिया आई। एक शख्स ने लिखा कि नए साल के मौके पर किसी का पेट भरना अच्छा काम है। दूसरे शख्स ने कमेंट किया कि बच्चों का पेट भरने से अच्छा है कि इनकी फैमिली को इनकम सोर्स दे, जिससे वह रोटी खुद कमा सके। तीसरे शख्स लिखते हैं कि काश हमारे देश में सभी लोग भोजन की कीमत समझे।

- Advertisement -

Latest News

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!