Monday, January 25, 2021
- Advertisement -

डेब्यू करने वाला यह गेंदबाज कभी 200 रुपये के लिए खेलता था

Must Read

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...

सडक़ हादसे रोकने का जुनून, पति राघवेंद्र ने घर और पत्नी ने जेवर बेच दिए, 48000 लोगों को बांट चुके हैं मुफ्त हेलमेट

दोस्तों और रिश्तेदारों की मदद करने के किस्से तो आपने बहुत सुने होंगे। क्या कभी आपने यह सुना है...

इस महिला ने सोहराई और मधुबनी कला के माध्यम से बनाई खुद की पहचान, विदेशों में भी लहराया भारतीय कला का परचम

वर्तमान समय में देखा जाता है कि ज़्यादातर लोग पश्चिमी सभ्यता से आकर्षित हो रहे हैं जिसके कारण वह...

New Delhi:  भारत व ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में नवदीप सैनी को चोटिल उमेश यादव की जगह मौका दिया गया है। उमेश को दूसरे टेस्ट मैच के दौरान चोट लगी थी। सैनी ने भी टीम मैनेजमेंट को निराश नहीं किया। सैनी की आग उगलती गेंदों के आगे मेजबान ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों को भी काफी परेशानी हुई। जिसका नतीजा यह निकला कि सैनी ने अपने पहले ही टेस्ट मैच में विकेट ली। हालांकि एक वक्त ऐसा भी था जब वह 200 रुपये के लिए खेलते थे। आइए जानते हैं।

200 रुपये के लिए खेलते थे सैनी
नवदीप सैनी के बारे में एक चीज निकलकर सामने आ रही है। सैनी एक समय में 200 रुपये लेकर टूर्नामेंट में खेलते थे। हालांकि वह टूर्नामेंट लेदर की बॉल से नहीं टेनिस की बॉल से खेला जाता था। बाद में सैनी ने लेदर बॉल से खेलना शुरु किया, और गेंदबाजी में लगातार बदलाव करते रहे।

दिल्ली की ओर से खेलते हैं
बताते चले कि सैनी यू तो हरियाणा के करनाल के रहने वाले हैं, लेकिन वह दिल्ली के लिए रणजी ट्रॉफी में खेलते हैं। उनके शानदार प्रदर्शन की वजह से ही आज वह टीम इंडिया में बतौर तेज गेंदबाज जुड़े हैं।

साल 2013 तक वह टेनिस की बॉल से खेलते थे
सैनी के बारे में एक चीज जो शायद ही किसी को पता हो कि वह साल 2013 तक लेदर की बॉल से नहीं बल्कि टेनिस की बॉल से खेलते थे।

तीसरे टेस्ट मैच में बरसात ने डाली खलल
तीसरे टेस्ट मैच के पहले दिन बरसात की वजह से पूरे 90 ओवर नहीं फेंके गए। बीच-बीच में हो रही बरसात की वजह से खेल को कई बार रोका गया। बताते चले कि पहले दिन महज 55 ओवर की गेंदबाजी हुई। जिसमें मेजबान ने 166 रन बनाए। हालांकि टीम इंडिया को दो सफलता भी हाथ लगी है।

- Advertisement -

Latest News

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!