Sunday, April 18, 2021
- Advertisement -

इस बच्ची को है दुनिया की दुर्लभ बीमारी, 16 करोड़ रुपए के इंजेक्शन से बच सकती है जान

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

कहा जाता है कि बच्चे भगवान का दूसरा रूप होते हैं। बच्चों की किलकारियां किसी भी घर को रोशन कर देते हैं। बच्चे जब घर में चहकते हैं तो मां बाप और परिवार के सभी लोगों के चेहरों पर रौनक देखते ही बनती है। मगर जब बच्चों को कुछ परेशानी होती है तो मां-बाप की आत्मा को कष्ट पहुंचता है। यही वजह है कि सभी परिवार अपने बच्चों को खुशहाल देखना चाहते हैं।

Facebook / teerafightssma

मौत के मुहाने खड़ी है ये नन्हीं परी

मगर इन दिनों एक मां-बाप अपनी नन्ही परी की दुर्लभ बीमारी को लेकर खासे दुखी हैं। उनके दिन का चैन और रातों की नींद उड़ गई है। इस बच्ची को ऐसी बीमारी है, जोकि करोड़ों में किसी एक को होती है। यही वजह है कि बच्ची के माता-पिता को इन दिनों अपनी बेटी के जीवन के अलावा कुछ दिखाई नहीं देता।

तीरा है इस बच्ची का नाम

इस प्यारी से बच्ची का नाम तीरा है। पैदा होते वक्त इसकी लंबाई को देखकर ही मां-बाप ने उसका नाम तीर की तर्ज पर तीरा रख दिया। ये प्यारी सी पांच साल की बच्ची इन दिनों बीमार है और उसे वेंटीलेटर पर रखा गया है। इस बच्ची की जान बचाने के लिए डाक्टरों को अमेरिका से एक ऐसा जीवन रक्षक इंजेक्शन चाहिए, जिसकी कीमत 16 करोड़ रुपए बताई गई है। यदि ये इजेक्शन इस बच्ची को नहीं लगा तो वह अधिक से अधिक एक महीने और जीवत रह सकती है।

लगाना पड़ेगा 16 करोड़ का इंजेक्शन

इंडिया टी.वी. की रिपोर्ट के अनुसार अपनी बच्ची को बचाने के लिए उसके परिजन 16 करोड़ रुपए का ये इंजेक्शन खरीदना तो चाहते हैं, मगर उनके पास इतना रुपए नहीं हैं। इसके लिए उन्होंने दुनिया भर में मदद का अभियान चलाया है। तीरा कामत के पिता मिहिर और मां प्रियंका मुंबई के मूल निवासी बताए गए हैं। बताया गया है कि बच्ची के पैदा होने के कुछ समय बाद उसे दूध पीने में दिक्कत आने लगी। दूध पीते समय उसे सांस लेने में परेशानी होने लगी और दम घुटने का अहसास होता था। बच्ची को दिखाने के लिए जब मां बाप डाक्टर के पास गए तो पता चला कि उसे दुर्लभ बीमारी है, जोकि बहुत कम लोगों में ही होती है।

एसएमए टाईप-1 है इस बीमारी का नाम

इस बीमारी का नाम डाक्टरों ने एसएमए टाईप-1 बताया गया। इस बीमारी से पीडि़त बच्चों की उम्र 18 से 20 महीने तक ही होती है। डाक्टरों ने कहा है कि इस बच्ची को बचाने का केवल एक ही उपाय है और वह है अमेरिका से लाया गया संजीवनी इंजेक्शन। इस इंजेक्शन की कीमत 16 करोड़ रुपए बताई गई है। डाक्टरों का कहना है कि संभावना है कि इस इंजेक्शन के लगने के बाद बच्ची को बचाया जा सकता है।

बच्ची के लिए मांगा सहयोग

बच्ची के पिता मिहिर के पास इतने रुपए नहीं हैं, इसलिए उन्होंने लोगों से मदद का अभियान चलाया है। इसके लिए एक फंडिंग पेज बनाया गया है, जिससे जरिए वह लोगों से आर्थिक सहायता जुटा रहे हैं। हालांकि लोग उनकी मदद भी कर रहे हैं, मगर इसके बावजूद यह मदद अभी नाकाफी साबित हो रही है। वह दूसरी ओर तीरा का मुंंंबई के एसआरसीसी अस्पताल में ईलाज किया जा रहा है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -