Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

इस बार गणतंत्र दिवस पर देश की बेटी करेगी देश का नाम रोशन, भारतीय एयरफोर्स की पहली महिला फाइटर पायलट भावना कंठ होंगी परेड का हिस्सा

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

वर्तमान में देश-विदेश के हर कोने में बेटियाँ देश का नाम रोशन कर रही हैं| आज देश की बेटी आए दिन अपने कार्यों से पूरे विश्व को यह संदेश दे रही हैं कि लड़कियां, लड़कों से कम नहीं हैं| आज हम आपको देश की एक ऐसी ही बेटी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने अपने कार्यों से देश का नाम रोशन कर दिया है साथ ही वह गणतन्त्र दिवस की परेड का भी हिस्सा बनने वाली हैं|

facebook/Bhawnakanth

आइए जानते हैं भावना कंठ के बारे में

भावना बिहार की रहने वाली हैं और भारतीय एयरफोर्स की पहली महिला फाइटर पायलट भी हैं| आज भावना ने अपना, अपने माता-पिता और देश का नाम रोशन कर दिया है| आज हर कोई देश की बेटी पर गर्व कर रहा है| भावना बेशक बिहार की रहने वाली हैं, लेकिन उनका पालन-पोषण मथुरा में हुआ है|

गणतंत्र दिवस की परेड का हिस्सा बनेंगी भावना

बात दें कि भावना आने वाले गणतंत्र दिवस की परेड का हिस्सा बनने वाली हैं| इस बार गणतंत्र दिवस पर राफेल फाइटर भी उड़ान भरने वाले हैं| जानकारी के मुताबिक गणतंत्र दिवस पर कुल 42 एयरक्राफ्ट फ़्लाइपास्ट करेंगे| भावना भी एयरफोर्स की झांकियों का हिस्सा बनेंगी|

सराहनीय कार्यों के लिए किया जा चुका है सम्मानित

भावना के सराहनीय कार्यों के लिए उन्हें सम्मानित भी किया जा चुका है| वर्ष 2020 में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर भावना को भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा नारी शक्ति पुरस्कार से नवाजा जा चुका है| भावना ने इस पुरस्कार को उनकी मेहनत का नतीजा बताया|

बेटी पर पिता को है गर्व

भावना के पिता तेज नारायण को भी अपनी होनहार बेटी पर बहुत गर्व है, वह कहते हैं कि हमे कभी भी लड़कियों को लड़कों से कम नहीं समझना चाहिए| वह बताते हैं कि उन्होंने अपनी बेटी भावना को सपनों की उड़ान भरने से कभी नहीं रोका| उसका परिणाम आज सब के सामने हैं|

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -