Sunday, January 24, 2021
- Advertisement -

मुसीबत पीछा नहीं छोड़ती, हौंसले को है सलाम , साईकिल से घर-घर जाकर दूध बेचती है 62 साल की शीला बुआ

Must Read

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...

सडक़ हादसे रोकने का जुनून, पति राघवेंद्र ने घर और पत्नी ने जेवर बेच दिए, 48000 लोगों को बांट चुके हैं मुफ्त हेलमेट

दोस्तों और रिश्तेदारों की मदद करने के किस्से तो आपने बहुत सुने होंगे। क्या कभी आपने यह सुना है...

इस महिला ने सोहराई और मधुबनी कला के माध्यम से बनाई खुद की पहचान, विदेशों में भी लहराया भारतीय कला का परचम

वर्तमान समय में देखा जाता है कि ज़्यादातर लोग पश्चिमी सभ्यता से आकर्षित हो रहे हैं जिसके कारण वह...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

कहते हैं कि मुसीबत जो ना करवाएं वह कम है। परेशानी में घिरे इंसान का मुसीबतें पीछा नहीं छोड़ती, फिर भी जीवन है तो जीना ही पड़ता है। ऐसी ही कुछ कहानी है 62 साल की शाीला बुआ की। शीला बुआ इस उम्र में भी साईकिल पर घर-घर जाकर दूध बेचकर अपने परिवार को चला रही है। गांव खेड़ा निवासी रामप्रकाश की सबसे बड़ी बेटी शीला की शादी चालीस साल पहले आवागढ़ में हुई थी। मगर शादी को एक साल भी नहीं हुआ था कि उनके पति की मृत्यु हो गई। इसके बाद शीला वापिस अपने मायके आ गई। दोबारा से शादी करने की तैयारी हुई तो भाई कैलाश का बीमारी की वजह से निधन हो गया। इसके बाद शीला ने खुद को भगवान भरोसे ही छोड़ दिया और फिर से शादी करने का ख्याल अपने दिल से निकाल दिया।

पिता के साथ करने लगी खेतीबाड़ी

इस हादसे के बाद शीला अपने मायके मे रहकर पिता के साथ खेतीबाड़ी करने लगी। चार बहन और भाई विनोद की शादी करवा दी। इसके बाद साल 1996 में पिता की भी मौत हो गई और कुछ दिनों बाद मां भी छोडक़र चली गई। इस तरह से शीला ने अपने पूरे परिवार की जिम्मेदारी अपने कंधों पर ले ली। इस बीच शीला ने दूध का काम शुरू कर दिया और एक भैंस खरीद ली। भैंस रखते ही वह घर घर जाकर साईकिल से दूध बेचने लगी। आज पूरे इलाके में शीला बुआ के नाम से ही जानी जाती हैं। दूध का काम उनका बढ़ता गया और उन्होंने पांच भैसें पाल ली। शीला बुआ सुबह चार बजे उठकर दूध बेचने की शुरूआत कर देती हैं।

जिम्मेदारी रूकने व थकने नहीं देती

62 वर्ष की हो चुकी शीला बुआ का कहना है कि उनके ऊपर इतनी जिम्मेदारियां है कि वह चाहकर भी बीमार नहीं हो सकती। वह बताती हैं कि उनके भाई विनोद की 6 बेटियां हैं, इनमें से बड़ी बेटी सोनम विधवा है, जोकि उनके पास ही रहती है। सोनम की भी आगे 6 बेटियां हैं। इस तरह से उनके ऊपर जिम्मेदारी का इतना बड़ा बोझ है कि वह उन्हें रूकने और थकने नहीं देती।

- Advertisement -

Latest News

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!