Saturday, February 27, 2021
- Advertisement -

इंजीनियरिंग छोडक़र IAS बनने के लिए आए विक्रम सिंह, मगर बार-बार होते रहे फेल, फिर 5वीं बार में पास की UPSC

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

आईएएस अधिकारी बनने के लिए इंजीनियर विक्रम सिंह ने लंबा रास्ता तय किया। इंजीनियरिंग में पोस्ट गे्रजुएशन करने के बाद उन्होंने आईएएस अधिकारी बनने की ठानी। लेकिन उन्हें शायद इस बात का इल्म नहीं था कि यह रास्ता इतना लंबा होगा। इसके बावजूद शायद उन्होंने ये भी सोचा होगा कि जब ओखली में सिर दे दिया तो फिर मूसल से क्या डरना। बस यही सोचकर विक्रम सिंह ने लगातार चार बार यूपीएससी की परीक्षा दी और हर बार फेल होते रहे।

abp

युवाओं के लिए प्रेरणा हैं विक्रम सिंह

विक्रम सिंह की यह कहानी उन युवाओं के लिए प्रेरणा की जीती जागती मिसाल है, जोकि यूपीएससी की परीक्षा तो देना चाहते हैं, मगर असफलता से घबराते हैं। विक्रम सिंह ने भी बिना हार माने अपने मंजिल को पाने के लिए खूब प्रयास किए। वह जब तक सफल नहीं हो गए, तब तक वह लगातार प्रयास करते रहे। अंत में उन्हें 2019 में पांचवीं बार में यूपीएससी में सफलता मिली और वह पास होने में सफल रहे।

आप्शन के तौर पर चुना ये सब्जेक्ट

विक्रम सिंह ने यूपीएससी परीक्षा के लिए आप्शन के तौर पर साइकोलॉजी का विषय चुना था। आमतौर पर परीक्षार्थी इस विषय को ना के बराबर ही चुनते हैं। मगर विक्रम सिंह ने इस कठिन विषय को चुनकर ही परीक्षा पास करके दिखाई। नॉलेज ट्रेक से बात करते हुए विक्रम सिंह ने कहा कि यूपीएससी करने का निर्णय उन्होंने अचानक लिया था। यदि ऐसा नहीं होता तो वह पहले इंजीनियरिंग ना करते, बल्कि सीधे यूपीएससी की तैयारी में जुट जाते। इस बीच कुछ दोस्त और कई कारणों की वजह से वह यूपीएससी करने के लिए आए थे। बता दें कि यूपीएससी क्लीयर करने से पहले ही विक्रम बीटेक और एमटेक भी कर चुके हैं। उन्होंने उच्च शिक्षा ग्रहण करने के बाद देश की सबसे बड़ी परीक्षा को चुनने का निर्णय लिया था।

एनसीईआरटी की किताबें पढऩे की दी सलाह

विक्रम ने बताया कि उन्होंने एनसीईआरटी की किताबों को पढक़र यूपीएससी पास की है। इस परीक्षा में एनसीईआरटी की किताबें बहुत सहायक होती हैं। उन्होंने यूपीएससी परीक्षा देने वाले स्टूडेंटस को सलाह दी है कि वह एनसीईआरटी की किताबों को जरूर पढ़ें, यह परीक्षा के लिए बहुत जरूरी होती हैं। इन्हें पढऩे के बाद आपको नोट बनाने की जरूरत ही नहीं होती है। उन्होंने बताया कि एनसीईआरटी की किताबों से ही यूपीएससी के बहुत से सवाल लिए जाते हैं। पिछले साल के पेपर देखेंगे तो आपको यह पता चल जाएगा। विक्रम भी एक बात कहते हैं कि मेहनत करने के बाद भी यदि आप असफल हो जाएं तो घबराएं नहीं, बल्कि लगातार प्रयास करते रहें। एक दिन सफलता जरूर आपके पास आएगी।

 

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -