Saturday, November 27, 2021
- Advertisement -

महिलाएं सीख रही हैं ट्रैक्टर चलाना, राजपथ पर ट्रैक्टर मार्च निकालेंगी

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...

New Delhi: सिंघु बॉर्डर सहित अन्य बॉर्डर पर किसानों का धरना प्रदर्शन जारी है। किसानों ने साफ कर दिया है कि वह बिना मांग को पूरा कराए बिना घर नहीं लौटेंगे। बताते चले कि किसान आंदोलन को 40 दिन से ज्यादा का समय हो गया है। बीतते वक्त के साथ यह आंदोलन और भी मजबूत हो रहा है। बताया जा रहा है कि किसानों के समर्थन में और भी लोग पहुंच रहे हैं। इस कड़ी में देशभर की किसान महिलाएं ट्रैक्टर चलाना सीख रही हैं। बताया जा रहा है कि यह महिलाएं ट्रैक्टर मार्च में शामिल होंगी।

किसानों ने कहा निकालेंगे ट्रैक्टर मार्च
चार जनवरी की बातचीत में जब कोई फैसला नहीं निकल पाया तो किसानों ने एलान कर दिया था कि वह राजपथ पर ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे। अब इस कड़ी मेें अब देशभर की महिलाएं ट्रैक्टर चलाना सीख रही हैं।

क्या कहा महिलाओं ने
अमृतसर में ट्रैक्टर मार्च के ट्रैक्टर चलाना सीख रही महिलाओं ने बताया कि हमें बताया गया है कि 26 जनवरी को परेड में ट्रैक्टर मार्च निकालना है। इसलिए हम ट्रैक्टर मार्च निकाल रहे हैं। इसलिए रोजाना अभ्यास भी कर रहे हैं।

नहीं बनी बातचीत
किसान नेताओं व केंद्र की मोदी सरकार के बीच हुई बातचीत से बीच का रास्ता नहीं निकल पाया है, जिसकी वजह से किसान नराज है। किसान कह रहे हैं कि सरकार हमारी मांगे नहीं मान रही हैं। जिसकी वजह से हमें अपना धरना जारी रखना होगा। बताते चले कि केंद्र की मोदी सरकार व किसान नेताओं के बीच सात राउंड की बातचीत भी फेल रही है।

लोहड़ी का पर्व भी मनाया जाएगा
बताया जा रहा है कि किसान धरना स्थल पर ही लोहड़ी का पर्व मनाएंगे। बताया जा रहा है कि इस पर्व को मनाने के लिए भारी संख्या में लोग पंजाब, हरियाणा से पहुंचने वाले हैं। किसानों का कहना है कि हम छह माह का राशन लेकर आए हैं, इसलिए धरना तो जारी ही रहेगा।

 

- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -