Monday, January 25, 2021
- Advertisement -

महिलाएं सीख रही हैं ट्रैक्टर चलाना, राजपथ पर ट्रैक्टर मार्च निकालेंगी

Must Read

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...

सडक़ हादसे रोकने का जुनून, पति राघवेंद्र ने घर और पत्नी ने जेवर बेच दिए, 48000 लोगों को बांट चुके हैं मुफ्त हेलमेट

दोस्तों और रिश्तेदारों की मदद करने के किस्से तो आपने बहुत सुने होंगे। क्या कभी आपने यह सुना है...

इस महिला ने सोहराई और मधुबनी कला के माध्यम से बनाई खुद की पहचान, विदेशों में भी लहराया भारतीय कला का परचम

वर्तमान समय में देखा जाता है कि ज़्यादातर लोग पश्चिमी सभ्यता से आकर्षित हो रहे हैं जिसके कारण वह...

New Delhi: सिंघु बॉर्डर सहित अन्य बॉर्डर पर किसानों का धरना प्रदर्शन जारी है। किसानों ने साफ कर दिया है कि वह बिना मांग को पूरा कराए बिना घर नहीं लौटेंगे। बताते चले कि किसान आंदोलन को 40 दिन से ज्यादा का समय हो गया है। बीतते वक्त के साथ यह आंदोलन और भी मजबूत हो रहा है। बताया जा रहा है कि किसानों के समर्थन में और भी लोग पहुंच रहे हैं। इस कड़ी में देशभर की किसान महिलाएं ट्रैक्टर चलाना सीख रही हैं। बताया जा रहा है कि यह महिलाएं ट्रैक्टर मार्च में शामिल होंगी।

किसानों ने कहा निकालेंगे ट्रैक्टर मार्च
चार जनवरी की बातचीत में जब कोई फैसला नहीं निकल पाया तो किसानों ने एलान कर दिया था कि वह राजपथ पर ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे। अब इस कड़ी मेें अब देशभर की महिलाएं ट्रैक्टर चलाना सीख रही हैं।

क्या कहा महिलाओं ने
अमृतसर में ट्रैक्टर मार्च के ट्रैक्टर चलाना सीख रही महिलाओं ने बताया कि हमें बताया गया है कि 26 जनवरी को परेड में ट्रैक्टर मार्च निकालना है। इसलिए हम ट्रैक्टर मार्च निकाल रहे हैं। इसलिए रोजाना अभ्यास भी कर रहे हैं।

नहीं बनी बातचीत
किसान नेताओं व केंद्र की मोदी सरकार के बीच हुई बातचीत से बीच का रास्ता नहीं निकल पाया है, जिसकी वजह से किसान नराज है। किसान कह रहे हैं कि सरकार हमारी मांगे नहीं मान रही हैं। जिसकी वजह से हमें अपना धरना जारी रखना होगा। बताते चले कि केंद्र की मोदी सरकार व किसान नेताओं के बीच सात राउंड की बातचीत भी फेल रही है।

लोहड़ी का पर्व भी मनाया जाएगा
बताया जा रहा है कि किसान धरना स्थल पर ही लोहड़ी का पर्व मनाएंगे। बताया जा रहा है कि इस पर्व को मनाने के लिए भारी संख्या में लोग पंजाब, हरियाणा से पहुंचने वाले हैं। किसानों का कहना है कि हम छह माह का राशन लेकर आए हैं, इसलिए धरना तो जारी ही रहेगा।

 

- Advertisement -

Latest News

किसी मसीहा से कम नहीं हैं दिव्यांग राधेश्याम, मगर हौंसला ऐसा कि बड़े से बड़ा दानवीर भी उनके सामने है बौना

दिव्यांग शब्द कैसे पड़ा, शायद बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं होगी। आपको बताते हैं कि विकलांग शब्द...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!