Thursday, April 22, 2021
- Advertisement -

10 रुपए से शुरू की गई कंपनी बनी किसानों के लिए वरदान, कम कीमत पर सामान के साथ दिया जा रहा कृषि का ज्ञान

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

झारखंड में 10 रुपए से शुरू गई महिलाओं की कंपनी वहां के किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है। जहां पर सस्ते सामान के साथ कृषि ज्ञान भी दिया जा रहा है। यह कंपनी किसानों के साथ महिलाओं के लिए भी अच्छी आमदनी का जरिया बन गई है। छोटी से बचत से शुरू की गई कंपनी अब लाखों रुपए का कारोबार कर रही है। वहीं कंपनी की शुरूआत करने वाली महिला नीलिमा मुर्मू कोषाध्यक्ष का काम संभाल रही है।

स्वयं सहायता समूह के जरिए की शुरुआत

नीलिमा बताती है कि उन्होंने अपनी कंपनी की शुरुआत स्वयं सहायता समूह के जरिए की थी। वह बताती है कि उन्हें कभी भी आभास नहीं था कि इतनी छोटी सी बचत की शुरुआत करके एक दिन वह बोर्ड आफ डायरेक्टर बन जाएगी। 36 साल की नीलिमा झारखंड के गिरिडीह जिले में रहती है। नीलिमा ने स्वयं सहायता समूह की बचत से एग्री मार्ट खोला है। जिसमे किसानों को उनकी जरूरत का सभी सामान मिलता है। उनके मार्ट के खुलने से पूरे जिले के किसानों को राहत पहुंची है। किसानों का कहना है कि जो सामान उन्हें मार्ट से काफी कम दाम में उपलब्ध हो जाता है। वह पहले मंहगे दामों में मिलता था।

महिलाएं ही करती है एग्रो मार्ट का संचालन

निलिमा बताती है कि उनकी कंपनी में सभी काम महिलाएं संभालती है। उनका लक्ष्य किसानों को सस्ते उत्पादन उपलब्ध कराने के साथ महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना भी है। नीलिमा के अनुसार 160 से अधिक उत्पादक समूह की महिला किसान सामान लेने और उनसे खेतीबाढ़ी के बारे में पूछने आती है। वह कहती है कि उन्हें अपनी कंपनी में तैयार किए गए उत्पादन पर पूरा विश्वास है क्योंकि उनकी कंपनी महिलाएं यह सभी उत्पाद तैयार करती है। वह बताती है कि झारखंड के 11 जिलो में इस समय एग्री मार्ट का संचालन महिलाएं कर रही है।

70 लाख से अधिक का पहुंच चुका है कंपनी का कारोबार
नीलिमा के अनुसार उनकी कंपनी का कारोबार अब कुल मिलाकर 70 लाख से अधिक पहुंच चुका है। उनकी कंपनी से चार हजार से अधिक किसान लाभ उठा रहे हैं। किसानों को न सिर्फ कृषि उत्पाद मिलते है बल्कि कृषि के बारे में जानकारी भी मिलती है। कंपनी द्वारा वाट्सएप ग्रुप बनाकर उन्हें खेतीबाढ़ी के बारे में जानकारी दी जाती है। वाट्सएप ग्रुप पर सुबह साढ़े 10 बजे से कर शाम पांच बजे तक खेती के बारे में जानकारी दी जाती है। नीलिमा के अनुसार उनका यह मॉडल पूरे देश के ग्रामीण क्षेत्रों में लागू हो सकता है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -