Friday, April 23, 2021
- Advertisement -

कैंसर से हुई पिता की मौत, सदमें से उभर कर शुरू की UPSC की तैयारी, पहले प्रयास में बनी IAS

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

सिविल सर्विस की तैयारी करने वाले युवाओं को कई तरह की परेशानी झेलनी पड़ती है। उन्हें हमेशा संघर्ष के लिए तैयार रहना पड़ता है। कई बार यह संघर्ष तैयारियों से संबंधित होता है तो कई बार परिवार को परेशानी से गुजरना पड़ता है। कुछ ऐसे ही संघर्षों का सामना UPSC की तैयारी करने वाले सिविल सर्विस की तैयारी करने वाली ऋषिता को करना पड़ा। ऋषिता ने यूपीएससी को पहली बार में ही पास कर लिया। लेकिन इतने कम दौर में भी उनके लिए कई परेशानियां खड़ी हुई।

पिता को कैंसर होने के कारण पैदा हुई परेशानी

ऋषिता के पिता को कैंसर था। कैंसर से जूझ रहे पिता की डेढ हो गई। जिसका सदमा ऋषिता को भी लगा। क्योंकि पिता ने कई बार मुश्किल समय में ऋषिता का मार्गदर्शन करते हुए उन्हें सही राह दिखाई दी। जल्द ही ऋषिता ने सदमें से उभरते हुए तैयारी शुरू कर दी। वह लगातार बेहतर करने का प्रयास करती रही। ऋषिता ने बताया कि वह काफी मुश्किल समय था। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी।

पहले देखा था डाक्टर बनने का सपना

ऋषिता बताती है वह शुरू से ही डाक्टर बनना चाहती थी। इसके लिए उन्होंने स्कूली पढ़ाई के दौरान काफी मेहनत भी की थी। लेकिन बारहवीें में कम अंक आने के कारण उन्हें मनचाहे कोर्स में दाखिला नहीं मिल पाया। जिसके बाद उन्होंने लिट्रेचर से ग्रेजुएशन किया। ग्रेजुएशन करने के साथ ऋषिता ने तय किया कि वह सिविल सर्विसेस की तैयारी करेंगी। इसके बाद ऋषिता ने तैयारी शुरू कर दी। उन्होंने वर्ष 2015 में तय किया कि वह यूपीएससी की परीक्षा देगी। वही उन्होंने पहली बार में ही परीक्षा को पास करने की भी ठानी थी। ऋषिता का यह अपने आप से किया गया वादा सच साबित हुआ। वह पहली बार में ही आल इंडिया रैंक 15 हासिल करने में कामयाब रही। जिसके बाद वह आईएएस असफर बन गई।

तैयारी के लिए नहीं है अधिक पैसे की जरूरत

ऋषिता बताती है कि यूपीएएसी की तैयारी के लिए अधिक पैसे की जरूरत नही हैं। वह बताती है कि तैयारी के लिए आपको केवल अपने कांसेप्ट क्लियर करने पड़ते हैं। ऋषिता ने अपना बेस मजबूत करने के लिए सबसे पहले एनसीआरटी पढ़ी। इसके बाद एक लैपटाप नेट कनेक्शन,कुछ किताबे और प्रिटर का इंतजाम किया। वह बताती है कि आप्शनल चुनते समय केवल अपने दिल की बात सुने। उतना ही पढ़ा जाए जिसको दोहराया जा सके। लगातार न्यूज पेपर और मंथली मैगजीन पढऩे से भी फायदा होता है।

परिणाम पर नहीं अपने तैयारियों पर दे ध्यान

ऋषिता कहती है कि छात्रों को अपने रिजल्ट पर नहीं बल्कि तैयारियों पर ध्यान देना चाहिए। अगर तैयारी अच्छी होगी तो परिणाम आना लाजिमी है। वहीं वह कहती है कि सिविल सर्विस में यह बात कोई मायने नहीं रखती कि आप किस बैकग्राउंड से आते हैं। आप स्कूली समय में कै से स्टूडेंट्स रहे हैं। इन सब बातों से कोई फर्क नहीं पढ़ता है। अगर आप आगे बढऩे की सोच लो तो आपको मंजिल अवश्य मिलेगी।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -