Monday, April 19, 2021
- Advertisement -

दो बार फेल होकर भी निराश नहीं हुए इंजीनियर साहब, बिना कोचिंग के ही तीसरे प्रयास में बन गए IAS

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

UPSC की तैयारियों के समय छात्रों में काफी तनाव रहता है। उनके मन में सवाल चलते रहते है कि वह पास हो पाएंगे या नहीं। लेकिन दिल से की गई मेहनत हमेशा रंग लाती है। उसके लिए बेहतर संसाधनों की जरूरत नहीं पड़ती। बिना अच्छे संसाधनों के भी आप सफलता हासिल कर लेते हैं। ऐसे ही लोगों में जोधपुर के दिलीप सिंह शोखावत का नाम शामिल है। जिन्हें पहले दो बार असफलता हाथ लगी। इसके बाद भी उन्होंने हार नहीं मानी। और तीसरे प्रयास में बिना कोचिंग के ही आईएएस बन गए। तीसरे प्रयास में दिलीप ने आल इंडिया रैंक अंक 72 के साथ टाप किया।

Instagram/DILIP PRATAP SINGH SHEKHAWAT

इंजीनियरिंग से किया था ग्रेजुएशन

सिविल सर्विस की तैयारी करने से पहले दिलीप ने केमिकल इंजीनियरिंग से ग्रेजुएशन किया था। ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी। पहले दो स्टेज में उन्होंंने काफी मेहनत की। पहले प्रयास में उनका प्री में ही सेलक्शन हुआ। वहीं दूसरे प्रयास में वह मेन्स तक आकर रूक गए। दोनों बार में कॉमन चीज यह थी कि दिलीप काफी करीब से बाहर हुए। इसके बाद उन्होंने तीसरा प्रयास किया। जिसमें उन्होंने 72 रैंक के साथ टाप किया। इससे उनका आईएएस बनने का सपना पूरा हो गया।

कोचिंग को लेकर नहीं करे अधिक चिंता

दिलीप सिंह शेखावत बताते है कि जब कोई सिविल सर्विस की तैयारी शुरू करता है तो वह सबसे पहले कोचिंग इंस्टीट्यूट तलाश  करता है। कोचिंग इंस्टीट्यूट को लेकर कई बार वह तनाव में आ जाता है। उसे लगता है कि उसे कोचिंग लेने में लापरवाही की तो वह असफल हो जाएगा। जबकि घर पर ही बेहतर तैयारी की जा सकती है।

आप्शनल को लेकर सावधानी है जरूरी

दिलीप बताते है कि आप्शनल को लेकर सावधानी जरूरी है। अच्छी रैंक लाने के लिए आप्शनल काफी महत्वपूर्ण होती है। इसलिए उनका चुनाव बहुत सोच समझकर करना चाहिए। कुछ प्वाइंट को अपने दिमाग में हमेशा रखना चाहिए। पिछले साल के पेपर उठाकर भी देख सकते हैं। ताकि विषय के बारे में पकड़ हो सके। इसके अलावा यह भी पता लगाना चाहिए था आप्शनल को कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है।

कोचिंग और दिल्ली जाना सफल होने के लिए नहीं जरूरी

दिलीप बताते है कि अगर आपके पास सही मार्गदर्शन है तो कोचिंग ज्वाइंन करने की कोई जरूरत नहीं है। हम तैयारी के लिए सीनियर, टीचर और इंटरनेट से मदद ले सकते हैं। वह कहते है कि यूपीएससी सेल्फ स्टडी का गेम है। कोचिंग वाले केवल आपको रास्ता बता सकते हैं, लेकिन रास्ते पर चलकर मंजिल आपको खुद ही तय करनी होगी। यही बात दिल्ली पर भी लागू होती है। अगर आप तैयारी के लिए दिल्ली नहीं जा सकते तो कोई बात नहीं। सभी चीजे इंटरनेट पर उपलब्ध हो जाती है। वह कहते है कि पूरी तैयारी के दौरान अपने आपको सेल्फ मोटिवेट रखना सबसे जरूरी है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -