Monday, April 19, 2021
- Advertisement -

दोनों पैर कटने के बाद भी इस जवान ने नहीं खोया हौंसला, हर रोज तय करते हैं 35 किमी का सफर

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

इंसान के भीतर का जज्बा उसको कभी हारने नहीं देता। इसलिए कई बार ऐसे भी मामले सामने आते है। कि जब कोई व्यक्ति अपने जज्बे से पहाड़ जैसी परेशानियों को मात देकर दोबारा उठ खड़ा होता है। ऐसा ही बहादुर लोगों को एंटी टेररिस्ट स्क्वाड के जवान अभिषेक का नाम शामिल है। अभिषेक ने अपने जज्बे से जिंदगी को दोबारा से हासिल कर लिया। जो उनके एक हादसे में दोनों पैर कटने के बाद कही खो गई थी।

india times

हादसे में अभिषेक ने गवां दिए थे दोनों पैर

मध्य प्रदेश के भिलाई के रहने वाले अभिषेक एंटी टेररिस्ट स्क्वाड का हिस्सा थे। वैसे तो अभिषेक रोजाना ही चुनौतियों का सामना करते थे। लेकिन एक दिन हादसे में उन पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा। अभिषेक निर्मलकर ड्यूटी के लिए रोजाना भिलाई से रायपुर दानापुर एक्सप्रेस में सवार होकर जाते थे। उस दिन वह ट्रेन के गेट पर खड़े होकर सफर कर रहे थे। तभी अचानक धक्का मुक्की होने के कारण उनका संतुलन बिगड़ गया। जिससे वह नीचे गिर गए। ट्रेन से नीचे गिरते ही वह बेहोश हो गए। जब उनकी आंख खुली तो उन्होंने अपने आपको अस्पताल के बिस्तर पर देखा। आंख खुलने के बाद उन्हें डाक्टरों ने बताया कि उनका एक पैर काट दिया गया। वहीं दूसरा पैर भी काटा जाएगा। इतना सुनते ही अभिषेक के लिए मानो धरती फट गई हो। अगले दिन ऑपरेशन के बाद उनका दूसरा पैर भी हटाना पड़ा।

परिवार के सहारे से दोबारा बनी जीने की हिम्मत

अभिषेक बताते है कि अगर उस हादसे के बाद उनकी पत्नी और परिवार उनकी हिम्मत नहीं बांधते तो वह मानसिक तनाव में चले जाते। यह तनाव उनके जीवन का अंत भी हो सकता था। लेकिन उनकी पत्नी और परिवार ने अभिषेक की हिम्मत बांधी। जिसके बाद अभिषेक को कृत्रिम पैर लगाया गया। करीबन छह माह के अभ्यास के बाद अभिषेक चलने भी लगे। इसके अलावा अब ड्यूटी ज्वाइंन करने के बाद अभिषेक अपने दोस्त की बाइक पर रोजाना 35 किलोमीटर का सफर कर रहे हैं। वह हादसे को भुलाकर दोबारा से सामान्य जीवन जीने लगे हैं। अभिषेक कहते है कि जीतने की जिद से इंसान किसी भी मुसीबत को हरा सकता है।

 

 

 

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -