Saturday, April 17, 2021
- Advertisement -

बंजर जमीन पर स्ट्रॉबेरी उगाकर गुरलीन ने किया कमाल, कमाती है लाखों रुपए, पीएम ने भी की तारीफ

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

23 साल की गुरलीन, जोकि कानून की पढ़ाई पूरी कर चुकी है। मगर अपने शौक की वजह से उन्होंने पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी गुरलीन चावला के हौंसले व जज्बे को सलाम किया है। मन की बात में झांसी की रहने वाली गुरलीन की पीएम मोदी ने जमकर तारीफ की और उन्हें झांसी की रानी के खिताब से सम्मानित भी किया है।

FB

इस तरह फेमस हुई स्ट्रॉबेरी गर्ल

दरअसल गुरलीन चावला ने स्ट्राबेरी गर्ल होने का खिताब पाकर रातों रात फेमस होने का कारमाना दिखाया है। बुदेलखंड की बंजर जमीन पर स्ट्रॉबेरी उगाकर ही गुरलीन चावला ने यह खिताब अपने नाम किया है। उनकी मेहनत और जज्बे की वजह से ही प्रधानमंत्री ने उनकी जमकर प्रशंसा की है। गुरलीन ने लॉ ग्रेजुएट करने के बाद कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि वह खेतीबाड़ी के काम से जुडेंग़ी। लॉकडाऊन के समय वह अपने घर झांसी आ गई थी।

गार्डनिंग के शौक ने बनाया इस काबिल

इस खाली वक्त में गुरलीन ने गार्डनिंग का शौक पाल लिया। वह अक्सर गमलों में पौधे लगाने लगी। इस दौरान उनके मन में ना जानें क्या आया कि उन्होंने कुछ गमलों में स्ट्रॉबेरी के पौधे लगा दिए। कुछ दिनों बाद ही उन पौधों से स्ट्रॉबेरी निकलकर फ्रूट बनते दिखाई दिए। उन्होंने जब वो खाए तो काफी स्वादिष्ट थे।

इंटरनेट पर सीखी स्ट्रॉबेरी की खेती

ऑनलाईन माध्यम इंटरनेट से स्ट्रॉबेरी के बारे में जानकारी जुटाने के बाद उन्होंने इसे बड़े स्तर पर उगाने का निर्णय लिया। उनके पास चार एकड़ जमीन थी, जिसे उन्होंने स्ट्रॉबेरी उगाने के लिए इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। अपने पिता की सहमति के बाद पिछले साल अक्टूबर में 20 हजार स्ट्रॉबेरी के पौधे खरीदे और उन्हें डेढ़ एकड़ जमीन पर लगा दिया। दिसंबर में ही ये पौधे फल देने की स्थिति में आ गए। स्ट्रॉब्रेरी तैयार होते ही उन्होंने स्थानीय बाजारों में बेचने के लिए संपर्क किया। उन्हें यह फू्र ट बाजार के दुकानदारों को पसंद आया और फिर सप्लाई का काम भी शुरू हो गया।

वेबसाईट से मिलते हैं ढेरों आर्डर

गुरलीन ने एक वेबसाईट भी तैयार कर दी,जिसका नाम रखा गया झांसी आर्गेेनिक्स। इस वेबसाईट से उन्हें स्ट्रॉबेरी के आर्डर मिलने लगे। वह अब स्ट्रॉबेरी के साथ साथ सब्जियों की खेती भी करने लगी हैं। गुरलीन के फार्म पर अब हर दिन करीब 70 से 80 किलो स्ट्रॉबेरी उगाई जाती है तथा उनके पास हर रोज 250 से भी अधिक आर्डर आते हैं। इस उत्पादन को बेचकर वह हर रोज तीस हजार रुपए की बिक्री कर लेती हैं।

इस तरह बनीं स्ट्रॉबेरी की ब्रांड एंबेसडर

गुरलीन को अपने इस उत्पादन और खेतीबाड़ी करते हुए अधिक समय नहीं हुआ है। उन्होंने मात्र पांच महीने में ही झांसी की रानी का ताज अपने सिर पर पहन लिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ भी गुरलीन को सम्मानित कर चुके हैं साथ ही उन्हें झांसी में होने वाले स्ट्रॉबेरी फेस्टिबल का ब्रांड एंबेसडर भी नियुक्त किया है। गुरलीन स्ट्रॉबेरी की खेती करते हुए लोगों को इसके लिए प्रशिक्षण भी दे रही हैं।

पीएम ने की तारीफ तो खुश हुए पिता

बता दें कि गुरलीन के पिता हरजीत सिंह चावला ट्रांसपोर्ट के व्यवसाय से जुड़े हुए हैं। पीएम द्वारा मन की बात में उनकी बेटी की प्रशंसा करने से वह बेहद ही खुश हैं। उनका मानना है कि गुरलीन ने अपनी कार्यप्रणाली से पूरे झांसी का मान बढ़ाया है। बता दें कि स्ट्रॉबेरी की डिमांड बहुत अधिक रहती है। उसमें बहुत से विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं। विटामिन सी से लेकर ए और के. भी पाया जाता है। जिससे लोगों को काफी लाभ मिलता है।

Source – Bhaskar

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -