Tuesday, April 20, 2021
- Advertisement -

कचरे में गए बालों से खड़ा कर दिया करोड़ो का कारोबार, फैशन इंडस्ट्री में मचाया धमाल

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

अक्सर लोग अपने सिर के बालों को बड़ा संभालकर रखते हैं। इनकी देखभाल करने के लिए महंगे तेल और शेम्पू प्रयोग किए जाते हैं। लेकिन इन बालों की कीमत केवल सिर से जुड़े होने तक समझी जाती है। जब इन्हेंं काट दिया जाता है तो यह बेकार हो जाते हैं। लेकिन दो युवा उद्यमियों ने कटे हु़ए बालों के सहारे ही करोड़ों रुपए का कारोबार खड़ा दिया है। युवा उद्यमियों ने करोड़ो रुपए का कारोबार खड़ा करने के साथ फैशन इंडस्ट्री में भी अपनी धमक मचाई। इन युवा उद्यमियों में आशीष धवन और शिल्पा गुप्ता का नाम शामिल है।

Representation image pixabay

तिरूपति बालाजी में बाल देखकर आया आइडिया

आशीष धवन और शिल्पा गुप्ता सफलता की कहानी सुनाते हुए बताते हैं कि उन्हें तिरूपति बालाजी में बेकार बालों को देखकर आइडिया आया। वह बताते हंै कि अपने परिवार के साथ तिरूपति बालाजी गए थे। जहां पर लोग मन्नत पूरी होने पर अपने बाल उतरवाते हैं। इन बालों को देखकर आशीष और शिल्पा के मन में विचार आया कि बेकार बालों को किस तरह से प्रयोग किया जा सकता है। जब उन्होंने बालों को लेकर रिसर्च किया तो जानकारी मिली कि बालों की कीमत करोड़ों रुपए में होती है। जिससे उनका दिमाग भी सन्न रह गया। इसके बाद बालों के कारोबार की राह तैयार हुई।

कानपुर लौटते ही शुरू कर दी मेहनत

आशीष बताते हैं कि उन्होंने कानपुर लौटते ही बालो के कारोबार को खड़ा करने के लिए मेहनत शुरू कर दी। बेकार बालों से डिजाइनर हेयर बिग तैयार की गई। पूरे देश में बालो की बिक्री और खरीद को लेकर नेटर्वक तैयार किया गया। हैरानी की बात है कि बालो का यह कारोबार अमेरिका और यूरोप तक भी जा पहुंचा। दोनो ने अपनी मेहनत से कानपुर के फजलगंज और आंध्र प्रदेश में बाल बनाने वाली फैक्ट्री भी लगा दी। आशीष के अनुसार उनके यहां बालों से तरह की चीज बनाई जाती है। जिसमें टापर्स, ब्लंड्स, केरोटीन शामिल है।

शुरुआत में बहाना पड़ा पसीना

शिल्पा बताती है बालो के कारोबार में सफलता पाने के बाद बेशक से किसी को भी लग सकता है कि यह काम काफी आसान था। लेकिन इसके लिए हमे काफी मेहनत करनी पड़ी। सबसे पहली परेशानी यह थी कि सिर से अलग हुए बालों को कोई भी संभाल कर नहीं रखता है। अधिकतर सैलून में बालों को फेंक दिया जाता है। यह बाल काफी गंदे भी हो जाते हैं। इसलिए सबसे पहले इन बालों को फैक्ट्री में क्लीनिंग की जाती है। उसके बाद बालो को अलग-अलग तरह के शेप में बनाए जाते हैं। शिल्पा कहती है कि उनका लक्ष्य बालो के कारोबार को कई देशों में फैलाने का है। वह बताती है कि इंसान की सोच का कोई अंत नहीं है। वह अपनी पाजिटिव सोच से कचरे को भी सोना बना सकता है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -