Friday, November 26, 2021
- Advertisement -

40 सालों के इतिहास में इनके गांव से नहीं निकला था कोई अधिकारी, दूसरे ही प्रयास में खुशबू बनी IAS

Must Read

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...

आपकी लाइफ बदल देगा मिट्टी का ये ए. सी. , बिना बिजली और बिना खर्च के देता है ठंडक

नई दिल्ली : जिस तरह से गर्मी बढ़ती जा रही जा रही है एयर कंडीशनर का प्रयोग भी बढ़ता...

अंग्रेजी हुकूमत को चारों खाने चित्त कर दिया था बोरोलीन ने, आज भी बाजार में है इस क्रीम का दबदबा

बोरोलीन बाज़ार में एक जानी मानी एंटीसेप्टिक क्रीम की ब्रांड है। आज इतने वर्षों बाद भी बोरोलीन का बाज़ार...
छोटी जगहों से आने वाले प्रतिभाशाली लोग सबसे हैरान कर देते हैं। किसी भी विश्वास नहीं होता है कि इतनी छोटी जगह से आने वाले व्यक्ति भी बड़े काम कर सकते हैं। ऐसी ही छोटी जगह से खुशबू गुप्ता निकलकर आई थी। पंजाब के भदौड़ से आने वाली खुशबू के गांव में 40 सालों से कोई आईएएस अधिकारी नहीं निकला था। उन्होंने दूसरे प्रयास में ही IAS का मुकाम हासिल कर लिया। खुशबू इससे पहले आईआईटी से गे्रजुएशन भी कर चुकी है। खुुशबू को बेहतर संसाधन नहीं मिले। लेकिन इन्हें परिवार से काफी सहयोग मिला। जिसके बल पर उन्होंने कीर्तिमान स्थापित कर दिया।

Instagram/khusboo gupta ias

पेपर में अतिरिक्त स्कोर लेेने के लिए करे निबंध की विशेष तैयारी 
खुशबू बताती है कि पेपर में अतिरिक्त स्कोर लेने के लिए निबंध की विशेष तैयारी करे। बाकी विषयों की तुलना में इस पर कम ध्यान देने से समस्या नहीं आएगी। लेकिन इसे पूरी तरह नजरअंदाज करना भी भारी पड़ सकता है। क्योंकि यह रैंक बिगाडऩे या सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए इसका अभ्यास जरूर करते रहे। वहीं आप इनपुट एकत्र करे। उसे ठीक से उतारना भी एक कला है। जो आपको तैयारी के दौरान ही सीखनी होगी। खुशबू कहती है कि वह इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स होने के कारण अच्छा नहीं लिख पाती थी। इसलिए उन्होंने डेढ़ महीना निबंध की तैयारी पर दिए। इस बिंदू पर काफी काम करना पड़ता है।
बिना अभ्यास के नहीं लिखा जा सकता अच्छा निबंध 
खुशबू बताती है कि बिना अभ्यास के अच्छा निंबंध नहीं लिखा जा सकता है। खुशबू बताती है कि वह निबंध लिखकर अपने दोस्तों और सीनियर को दिखाती थी। उनसे फीडबैक लेती थी। फिर उनके हिसाब से सुधार करती थी। वह उनसे पूछती थी कि इसमें क्या कमी महसूस हो रही है। निबंध पढक़र विषय समझ आ रहा है या नहीं। उनसे मिले फीडबैक के आधार पर ही खुशबू अपने आपको तैयार करती थी। खुृशबू बताती है कि टेस्ट सीरीज भी ज्वाइन करनी चाहिए। इससे आपको कमियां पता लगती है। वहीं वह कहती है कि आपसे जो पूछा जाए वहीं लिखे। अक्सर लोग लिखते हुए भटक जाते हैं। वह कहती है कि अगर आप दिल से मेहनत करते है तो आपको बेहतर करने से कोई नहीं रोक सकता। तैयारी के दौरान बिल्कुल आनंद से काम करे। नर्वस फील न हो।
- Advertisement -

Latest News

देश की पहली एमबीए पास सरपंच है छवि, अपनी मेहनत से बदल दी गांव की सूरत

नई दिल्ली : हमने किताबो, किस्से कहानियों में ऐसी चीजे जरूर पढ़ी होगी जिसमे युवा ने कॉरपोरेट नौकरी (corporate...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -