Monday, April 19, 2021
- Advertisement -

किस्मत ने ऐसे मिलाया दो प्यार करने वालों को, वृद्ध आश्रम में हुआ इस बुजुर्ग जोड़े का विवाह,

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

कहते हैं कि प्यार की कोई सीमा नहीं होती। प्यार एक ऐसा अहसास है, जो कभी भी एक दूसरे को सम्मोहित कर सकता है। ऐसे ही एक प्यारे से बंधन और दो बुजुर्ग लोगों के प्रेम की खबर से आपको रूबरू करवाएंगे। यह विवाह एक वृद्धआश्रम में हुआ, जिसके साक्षी बनें , वहीं रहने वाले दूसरे बुजुर्ग।

representation image pixabay

ये है लक्ष्मी और कोचानियन की प्रेम कहानी

यह कहानी है 65 साल की लक्ष्मी अम्मल और 66 साल वर्ष के के. कोचानियन की, जिनकी शादी होने को भी कुदरत का खेल ही माना जाएगा। दरअसल ये दोनों वृद्धआश्रम में मिले, जहां उनके प्यार को मंजिल मिली। इस तरह से दोनों का विवाह हो गया। फिलहाल यह कहानी लोगों के लिए प्रेरणा बनकर सामने आ रही है। लक्ष्मी के पति का 21 साल पहले निधन हो गया था। उस वक्त कोचानियन उनके पति के पास काम करते थे। मरने से पहले लक्ष्मी के पति ने कोचानियन से अपनी पत्नी का ख्याल रखने का वचन लिया था। पति के जाते ही लक्ष्मी और कोचानियन को एक दूसरे से प्यार हो गया।

इस तरह से वृद्धआश्रम पहुंचे कोचानियन

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार कोचानियन को अपने काम के सिलसिले में सडक़ों पर घूमना पड़ता था। एक बार सडक़ पर आते हुए वह बेहोश होकर गिर पड़े। तब एक एनजीओ ने उन्हें एक वृद्ध आश्रम भेज दिया। वहां से उन्हें एक दूसरे वृद्धआश्रम में भेज दिया गया। वहीं उनकी मुलाकात एक बार फिर से लक्ष्मी से हुई, जोकि पिछले 11 महीने से वहां रह रही थी। अपने प्यार को सामने देखकर लक्ष्मी भावुक हो गई। जब लोगों को उनके प्यार के बारे में पता चला तो उन्होंने इस बारे में वृद्वआश्रम के अधीक्षक जयकुमार को बताया।

जय ने सोचा विवाह करवा दें

जय को भी यह रिश्ता बहुत प्यारा लगा, उन्होंने सोचा कि क्यों ना दोनों का विवाह करवा दिया जाए। इससे पहले उन्होंने जरूरी औपचारिकता और कानूनी सलाह भी ले ली। इसके बाद जयकुमार ने वृद्व आश्रम में ही दोनों की धूमधाम से शादी करवा दी। जयकुमार का कहना है कि वृद्व आश्रम में लोगों से मिलने वाले बहुत ही कम लोग आते हैं। ऐसे में लक्ष्मी और कोचानियन आपस में खुश रह सकते हैं। वह प्यार करते हैं और पति-पत्नी के तरह से एक साथ जीवन यापन करेंगे तो जीवन खुशहाल हो जाएगा। यह सोचकर ही उन्होंने दोनों को शादी के बंधन में बांध दिया। वृद्वआश्रम में रहने वाले लोगों को भी इस प्यारे रिश्ते को शादी के बंधन में बंधते हुए देखकर बहुत प्रसन्नता महसूस हुई। सभी ने इस निर्णय का स्वागत भी किया और उन्हें इस नए रिश्ते के लिए बधाई दी।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -