Monday, April 19, 2021
- Advertisement -

अब डीएम और कमिश्रर बनेंगे छात्रों के द्रोण, तैयार करेंगे IAS और IPS अधिकारी

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

अक्सर लोगों ने अलग-अलग शहरों में डीएम और कमिश्रर को प्रशासनिक और कानूनी सेवाओं को लागू करते हुए देखा होगा। लेकिन अब इनका एक नया रूप भी देखने को मिलेगा। डीएम और कमिश्रर जीआईसी के छात्रों के गुरूजी बनकर उन्हें सिविल सर्विस के लिए तैयार करेंगे। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने डीएम और कमिश्रर को प्रतियोगी परीक्षाओं की निशुल्क कोचिंग देेने का आदेश दिया था। तैयारी करने वाले छात्रों के लिए यह पाजिटिव आदेश उत्तर प्रदेश के 71वे स्थापना दिवस पर दिया गया। मुख्यमंत्री के इस आदेश के बाद छात्रों के चेहरे पर भी राहत वाली मुस्कान आ गई। ऐसा होना भी लाजिमी था। क्योंकि डीएम और कमिश्रर को सिविल सर्विस तैयारियों की सभी बारीकियों का ज्ञान है। ऐसे में छात्रों को अधिक संघर्ष नहीं करना पड़ेगा। मुख्यमंत्री के इस अभ्युदय योजना की शुरुआत बसंत पंचमी के दिन होगी।

Representation image DNA

डीएम पढ़ाएंगे इतिहास और कमिश्रर देंगे फिजिक्स का ज्ञान

आदेश के बाद कौन क्या पढ़ाएगा। इसको लेकर भी स्थिति साफ कर दी गई। डीएम छात्रों को इतिहास का ज्ञान देंगे, वहीं कमिश्रर छात्रों को फिजिक्स पढ़ाएंगे। इन अधिकारियों का जिम्मा केवल उन्हें किताबी पढ़ाई ही नहीं बल्कि जीवन में मार्गदर्शन करने का भी रहेगा। कई बार बेहतर किताबी ज्ञान होन के बावजूद भी सफलता हासिल नहीं होती। इसलिए प्रशासनिक अधिकारी छात्रों को सभी पहलुओं से अवगत कराएंगे। मुख्यमंत्री की योजना के तहत आईएएस, आईपीएस, पीसीएस, एनडीए, सीडीएस, नीट और जेईई प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों को निशुल्क कोचिंग उपलब्ध कराई जाएगी।

स्कूल खत्म होने के बाद भी जारी रहेगी पढ़ाई

पहले स्कूल खत्म होने के बाद छात्रों की पढ़ाई खत्म हो जाती थी। लेकिन अब स्कूल खत्म होने के बाद भी छात्रों की पढ़ाई जारी रहेगी। स्कूलों और प्राइवेट कोचिंग के अच्छे शिक्षक विषय विशेषज्ञ के रूप में अपनी सेवाएं देंगे। वहीं कोचिंग के लिए बरेली के जीआईसी को चुना गया है। इसके साथ ही छात्रों को तैयारी की किताबे भी मुफ्त में दी जाएगी। जेडी डॉ प्रदीप कुमार बताते है कि मुख्यमंत्री की योजना के तहत छात्रों को सिविल सर्विस के लिए तैयार किया जाएगा। पहले छात्र सिविल सर्विस के लिए काफी संघर्ष करते थे। लेकिन इसके बावजूद भी उन्हें मुकाम हासिल नहीं होता था। अब उम्मीद है कि प्रदेश के लिए अच्छे असफर तैयार होंगे।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -