Monday, April 19, 2021
- Advertisement -

Real Hero : पिता का हुआ निधन, मां करती है घरों में काम, बेटा मजदूरी कर बन गया राष्ट्रीय पहलवान

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...
Sanjay Kapoorhttps://citymailnews.com
Sanjay kapoor is a chief editor of citymail media group

हमारे देश में होनहार खिलाडिय़ों को कितना संघर्ष और मुसीबतों का सामना करना पड़ता है, यह 7 बार नेशनल कुश्ती जीत चुके रेसलर सनी जाधव से बेहतर कोई नहीं जानता। उनके पिता के निधन के बाद से यह पहलवान खुद के लिए अभाव ग्रस्त जीवन जी रहा है। अपनी पहलवानी को जिंदा रखने के लिए सनी ना केवल हर रोज गाडिय़ां धोता है, बल्कि रेल विभाग में मजदूरी भी करता है। इसके बावजूद अपनी डाईट के लिए वह हर रोज चुनौतियों से जूझता हुआ दिखाई देता है।

twitter

सात बार जीत चुका है मैडल

बता दें कि सनी जाधव मध्यप्रदेश का एक होनहार पहलवान है, जिसने राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश का कई बार नेतृत्व किया है। अब तक सन्नी सात बार मध्यप्रदेश की ओर से खेलते हुए राष्ट्रीय स्तर पर मैडल जीत चुका है। पंरतु इसके बावजूद वह आर्थिक स्तर पर परेशानियों से जूझ रहा है, जिसके चलते उसे मजदूरी व गाडिय़ां धोने का काम करना पड़ रहा है। वह अपनी डाईट के लिए दिन भर मजदूरी करता है। इसके बाद भी जब उसे अपना खेल जारी रखने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा तो उसने कुश्ती छोडऩे का मन बना लिया।

प्राधिकरण ने बढ़ाए मदद के हाथ

पंरतु इस बीच सन्नी ने अपनी व्यथा से भारतीय खेल प्राधिकरण को अवगत जरूर करवा दिया। प्राधिकरण ने जब इस होनहार पहलवान की सारी मजबूरी व परेशानियों को समझा तो तत्काल उसकी सहायता के लिए हाथ बढ़ा दिया। प्राधिकरण ने ना केवल उसे ढाई लाख रुपए की आर्थिक सहायता जारी कर दी, बल्कि उसे फिर से प्रेक्टिस करने के लिए प्रेरित किया। प्राधिकरण की मदद के बाद सन्नी जाधव ने 20 से 22 फरवरी तक जालंधर में होने वाले वरिष्ठ राष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिता में मैडल जीतने की तैयारी शुरू कर दी है।

ये है सन्नी के परिवार की हालत

बता दें कि सन्नी जाधव के पिता एक ढाबा चलाते थे, जिससे उनके परिवार का खर्च मुश्किल से ही चल पाता था। उनके पिता को ब्रेन हेमरेज हो गया था ,जिसके चलते वर्ष 2017 में उनका निधन हो गया। इसके बाद उनका ढाबा बंद हो गया और परिवार आर्थिक संकट में फंस गया। इसके बाद सन्नी की मां ने घरों में बर्तन धोना शुरू कर दिया, जबकि वह गाडिय़ां धोने व रेलवे में मजदूरी का काम करने लगा। मगर खेल प्राधिकरण की मदद के बाद सन्नी को अब अपने भविष्य को लेकर उम्मीद बंधने लगी है।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -