Sunday, September 26, 2021
- Advertisement -

इस अनजान योद्धा को सलाम, ताज हमले में बचाई थी 157 लोगों की जान, इराक के युद्ध में दिखाया था कमाल

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

अब से 13 साल पहले मुंबई के ताज होटल पर हुए आतंकवादियों के हमले को शायद ही कोई भूल सकता हो। जब 10 आतंकवादियों ने देश की वित्तिय राजधानी पर हमला किया। उस दिन देश के बहादुर सैनिकों ने बहादुरी से लड़ते हुए लोगों की जान बचाई। इसमें से कुछ सैनिक तो चर्चा में आ गए। लेकिन कुछ अनजान ही बने रहे। ऐसे ही अनजान हीरों में अमेरिकी मरीन कैप्टन रवि धर्निधरका भी थे। जिन्होंने उस हमले में 157 लोगों की जान बचाई थी। रवि भी शायद ही उस दिन को कभी अपने जेहन से निकाल पाए। इससे पहले रवि ने इराक में चार साल उड़ान युद्ध अभियान में बिताए थे। इसमें नवंबर और दिसंबर में फालुजा की खूनी लड़ाई भी शामिल थी।

AFP

चचेरे भाईयों से मिलने के लिए काफी समय बाद आए थे भारत

रवि अपने चचेरे भाईयों से मिलने के लिए काफी समय बाद भारत आए थे। वह भाईयों के साथ बदहवर पार्क के पास छुट्टियां मना रहे थे। 26 नवंबर को उनके चाचा और चचेरे भाईयों ने ताजमहल पैलेस की 20वी मंजिल पर लेबनानी रेस्तरा में रात के खाने के लिए मिलने का फै सला किया। पत्रकार कैथी स्टाक-क्लार्क और एड्रियन लेवी की बुक के अनुसार कमांडो होटल पहुंचने के बाद काफी असहज थे। वह लगातार किनारे पर थे। उनका मन कुछ बुरा होने का अहसास करवा रहा था। एक ही समय में काफी फोन बज रहे थे।

AFP

कुछ बुरा होने का हो रहा था अहसास

रवि को उस दिन कुछ बुरा होने का अहसास हो रहा था। क्योंकि होटल की सुरक्षा के विपरित होटल में प्रवेश करने पर वह मेटल डिटेक्टर की बीपिंग साउंड की आवाज नहीं भूल पाए थे। किताब के अनुसार होटल के मेन रूम में ही एंट्री के दौरान ही रवि को गलत होने के संकेत मिल रहे थे। एक मेटल डिटेक्टर बीप हुआ। लेकिन उसको किसी ने रोका नहीं। फिर रवि को ऐसा लगा कि अधिक थकान की वजह से वह ऐसा सोच रहे हैं।

एक्स कमांडो के साथ निपटने का बनाया प्लान

जब यह पुष्टि हो गई कि होटल पर हमला हो गया है तो रवि अपने कुछ अन्य कमांडो के साथ इससे निपटने का फैसला किया। रवि और 6 अन्य कमांडो जानते थे वह किसी बड़ी मुसीबत में हैं। छानबीन करने के दौरान रवि और दक्षिण अफ्रीका के निकोल्स ने पाया कि दो फायर सीढ़ी वे इस्तेमाल कर सकते हैं। एक बाहर और दूसरा कान्फ्रेस हॉल के अंदर, उन्होंने मेज और कुर्सियों को भी बाहर से ब्लाक कर दिया। उन्होंने जल्दी से सभी को एक सुरक्षित जगह पर पहुंचाया। रास्ते में उन्होंने चाकू, छड़ी, जैसे हथियारों से खुद को लैस कर लिया।

इसके बाद शुरू हो गया ऑपरेशन

इसके बाद जल्द ही असली ऑपरेशन शुरू हो गया। पर्दे खींचे गए। रोशनी कम कर दी गई। सभी भारी वस्तुओं के साथ मोर्चाबंदी की गई। लोगों को फोन पर अधिक बात नहीं करने पर जोर दिया गया। रवि को पता था कि कमरे से निकले एक शब्द से लोगों की जान खतरे में पड़ सकती है। रवि से उसी सुरक्षित जगह पर आग से बचने के लिए बैरीकेड लगाया।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -