Thursday, April 22, 2021
- Advertisement -

छोड़ी 24 लाख की नौकरी, इस तरह से शुरू की खेतीबाड़ी. हो गए मालामाल

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

आज प्रत्येक खाद्य वस्तु में मिलावट होने लगी है। जो न सिर्फ इंसानी सेहत के लिए बल्कि पर्यावरण के लिए भी खतरनाक साबित हो रही है। ऐसे में कुछ लोग जैविक खेती की तरफ ध्यान दे रहे है। वह मोटी पैकेज की सैलरी छोडक़र जैविक खेती करते हुए न सिर्फ अच्छे पैसे कमा रहे है बल्कि लोगों को भी सेहतमंद बना रहे हैं। ऐसे ही लोगों में छतीसगढ़ बिलासपुर के सचिन काले शामिल है। जिन्होंने अपनी कारपोरेट की मोटी रकम वाली नौकरी छोडक़र जैविक खेती शुरू की। कारपोरेट उन्हें 24 लाख रुपए मिलते थे। लेकिन अब इस जैविक खेती के जरिए वह करोड़ो रुपए कमा रहे हैं।

नागपुर में सालाना 12 लाख रुपए में की नौकरी

सचिन काले शिक्षा ग्रहण करने के बाद नागपुर चले गए। वहां पर उन्होंने सालाना 12 लाख रुपए में नौकरी दी। सचिन का अपने दादा जी से काफी लगाव था। दादा उनके कहा करते कि नौकरी के अलावा जीवन में कभी भी समय मिले तो उसका प्रयोग लोगों की भलाई में लगाना। जिससे तुम्हारी जिंदगी पहले से बेहतरीन बन जाएगी। इसके बाद वह 24 लाख रुपए कमाने लगे। इसके बाद वह अपनी जिंदगी पूरे ऐशो आराम के साथ जीने लगे। लेकिन यह जिंदगी उन्हें धीरे धीरे बोर करने लगी। अंत में उन्होंने निश्चय किया कि वह अपने घर वापिस जाकर कुछ अलग करेंगे। जो लोगों के लिए बेहतर हो। इसके बाद वह वापस लौट गए। 12 साल बाद वर्ष 2014 को वह अपने घर वापस आ गए। वापस आने पर पिता ने कहा कि फैमली बिजनेस कर लो। लेकिन सचिन का मन कुछ विशेष करने का था। इसके बाद उन्होंने अपने गांव में जैविक खेती करने का निश्चय किया।
20 एकड़ पुश्तैनी जमीन से शुरू की खेती

सचिन ने 20 एकड़ पुश्तैनी जमीन से खेती शुरू की। उन्होंने खेती के बारे में हर वह जानकारी एकत्र की। जिससे वह अच्छी खेती कर सके। वह अपने खेती को कारपोरेट लुक देना चाहते थे। जिसके लिए उन्होंने प्रयास शुरू कर दिया। खेती करने के कुछ समय बाद उन्होंने इनोवेटिव एग्री लाइफ साल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड रखा। इस कंपनी के माध्यम से वह किसानों की मदद करने लगे। किसान उनसे खेती से तरीके से सीखने लगे। बहुत ही जल्द लगभग 70 से अधिक किसान खेती से जुडक़र इसके गुण सीख चुके थे। कंपनी के माध्यम से उनका टर्नओवर 2 करोड़ रुपए हो गया। सचिन बताते है कि पारंपरिक फसलों के अतिरिक्त वह सब्जी, फल और दाल भी उगाते है। वह युवाओं को खेती से जोडऩे में लगे हुए है।

 

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -