Monday, April 19, 2021
- Advertisement -

इस प्रभावशाली मुख्यमंत्री की बहन जीती है गरीबी का जीवन, चलाती है चाय और पकौड़े की दुकान

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

आज हमारे देश में यदि कोई राजनीति में छोटे स्थान पर भी पहुंच जाए तो उसके परिवार वाले खुद को ना जानें क्या समझ लेते हैं। लालबत्ती की गाड़ी में घूमने सेे लेकर वह अधिकारियों पर भी रौब झाड़ते हुए मिल जाएंगे। ऐसे कई मामले सामने भी आ चुके हैं। मगर आज हम आपको एक ऐसी हस्ती की कहानी बताने जा रहे हैं, जिनके सगे भाई देश की बहुत बड़ी स्टेट के मुख्यमंत्री हैं, इसके बावजूद वह एक साधारण और गरीब परिवार में गुजर बसर करती हैं। अपनी आजीविका कमाने के लिए मुख्यमंत्री की सगी बहन चाय की दुकान चलाती हैं। जी-हां आपने ठीक पढ़ा, यह हकीकत है उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सगी बहन की। उत्तराखंड के पौड़ी स्थित कोठार गांव में रहने वाली शशि देवी सीएम की सगी बहन हैं।

ऋषिकेश में चलाती हैं चाय, पकौड़े की दुकान

मुख्यमंत्री की बहन होने के बावजूद वह बेहद ही साधारण तरीके से ना केवल अपने परिवार के साथ रहती हैं, बल्कि ऋषिकेश में चाय की दुकान चलाती हैं। उनकी दो छोटी दुकानें हैं, इनमें से एक नीलकंठ मंदिर और दूसरी भुवनेश्वरी मंदिर के पास है। इन दोनों दुकानों में चाय, पकौड़े और प्रसाद मिलता है। सीएम की बहन का कहना है कि वह अपनी मेहनत से बहुत खुश हैं। उनका कहना है कि अपने भाई से वह उम्मीद रखती हैं कि वह यूपी की तरह से अपने पहाड़ के लोगों का भी भला अवश्य करें। वह अपने लिए उनसे कोई उम्मीद नहीं रखती, मगर अपने पहाड़ के लोगों का भला करने की गुजारिश जरूर करती हैं।

instagram

शशिदेवी के पति रहे हैं ग्राम प्रधान

शशिदेवी का ससुराल ऋषिकेश में है। उनके पति पूरण सिंह भी राजनीति में रूचि रखते हैं और वह ग्राम प्रधान के पद पर रह चुके हैं। नीलकंठ मंदिर के पास उनका अपना एक लॉज भी है। जिससे उनकी रोजी रोटी चलती है। शशिदेवी का कहना है कि वह अपने भाई को बहुत प्यार करती हैं। मगर उनसे मिलना नहीं हो पाता है। वह अपने देश की भलाई के काम में लगे हैं। उन्हें पता है कि उनके भाई अपने लोगों की भलाई के काम करके ही इस पद पर पहुंचे हैं।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -