Saturday, April 17, 2021
- Advertisement -

सुनकर हो जाएंगे हैरान, लिवजोत ने रचा इतिहास, 11 साल 4 महीने की उम्र में देगा 10 वीं की परीक्षा

Must Read

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...

अलग ही मिट्टी के बने तुषार, 17 साल तक असफलताओं से लड़े, अब बने जज

लोग दो या तीन साल की मेहनत के बाद सफल नहीं होते है तो वह टूट जाते है। लोग...

शहर घूमने सडक़ों पर निकला कोबरा तो रूक गया ट्रैफिक, घटना का वीडियो वायरल

वन्य जीवों के शहर में घूसने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। कभी तेंदुआ तो कभी कोई...

कहते हैं कि जिस बच्चे में योगयता होती है, वह छुपाए नहीं छुपती। यानि कि एक कहावत है कि होनहार बालक की काबलियत पैदा होते ही सामने आ जाती है। ऐसा ही कुछ साबित कर दिखाया है 11 साल 4 महीने के एक बच्चे ने, जिसने अपनी काबलियत के आधार पर सभी को आश्चर्यचकित कर दिया है। छत्तीसगढ़ के रहने वाले लिवजोत ने अनोखा कारनामा किया है,जिसे देखने और सुनने वाले हैरान हो गए हैं। अपनी इसी अनोखी कला के दम पर लिवजोत मीडिया की सुर्खियां बना हुआ है।

representation image pixabay

पढ़ता है पाचवीं में

लिवजोत वैसे तो अपनी उम्र के हिसाब से पांचवीं कक्षा में पढ़ता है। वह शहर के माईल स्टोन स्कूल की कक्षा पांच में पढ़ता है, परंतु उसका आई क्यू लेवल इतना हाई है कि वह पांचवीं में पढ़ते हुए दसवीं की परीक्षा देने के काबिल हो गया है। लिवजोत के पिता ने अपने बेटे का आई क्यू लेवल देखते हुए हाल बीते साल 15 अक्टूबर को माध्यमिक शिक्षा मंडल के अध्यक्ष और सैकेट्री के पास एक एप्लीकेशन दी। जिसमें उन्होंने अपने बेटे का आई क्यू लेवल एक 16 साल के बच्चे जितना बताते हुए उसे दसवीं की परीक्षा देने की अनुमति मांगी।

aaj tak

छत्तीसगढ़ में है ये प्रावधान

लिवजोत के पिता गुरविंद्र सिंह ने कहा कि उनका बेटा आई क्यू लेवल के हिसाब से दसवीं की परीक्षा को आसानी से पास कर सकता है। छत्तीसगढ़ में यह प्रावधान है कि यदि किसी बच्चे का आई क्यू लेवल उच्च स्तर का है और वह अपने से बड़ी कक्षा की परीक्षा देना चाहता है तो उसकी जांच के बाद अनुमति प्रदान कर दी जाती है। लिवजोत से पहले भी कई बच्चों को इस प्रकार की अनुमति प्रदान की गई है।

लिवजोत का करवाया गया था परीक्षण

गुरविंद्र सिंह की अर्जी पर लिवजोत का सरकारी अस्पताल दुर्ग में आई क्यू परीक्षण करवाया गया है। उसकी रिपोर्ट बेहतरीन आई है। जिसके बाद लिवजोत को इस परीक्षा के लायक माना गया है। इस रिपोर्ट के आधार पर लिवजोत को वर्ष 2020-21 के लिए होने वाली दसवीं की परीक्षा में बैठने की अनुमति प्रदान कर दी गई है।

बड़ा होकर बनेगा वैज्ञानिक

लिवजोत का कहना है कि अनुमति मिलने के साथ ही उसने दसवीं की परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी है। वह जल्द ही इस क्लास को पास करके दिखाएगा। उसने कहा कि भविष्य में वह वैज्ञानिक बनना चाहता है। बता दें कि इससे पहले भी मणिपुर में 12 साल के एक बच्चे को दसवीं की परीक्षा देने की अनुमति मिल चुकी है। इसी प्रकार से बिहार में भी 9 साल के एक बच्चे ने अपने काबलियत के आधार पर दसवीं की परीक्षा दी थी।

- Advertisement -

Latest News

वैलंटाईन डे मनाने का अनोखा तरीका,मालगाड़ी के नीचे पहुंच गया प्रेमी जोड़ा, फोटो देखकर आएगा मजा

वैलंटाईन डे को प्यार के दिन के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन दुनिया भर में प्रेमी जोड़े...
- Advertisement -

और भी पढ़े

- Advertisement -